अजमेर, जागरण संवाददाता। पीपुल फॉर एनीमल्स के प्रदेश प्रभारी व वाइल्ड लाइफ क्राइम कंट्रोल ब्यूरो के पूर्व विशेषाधिकारी बाबूलाल जाजू ने मुकुंदरा टाइगर रिजर्व कोटा में घुसे 4 शिकारियों की जमानत हो जाने पर फारेस्ट के अधिकारियों पर मिलीभगत व घोर लापरवाही का आरोप लगाते हुए बताया कि टाइगर रिजर्व में हथियार लेकर जाना अपराध की श्रेणी में आता है।

जाजू ने यह भी बताया कि किसी भी वन्यजीव का पीछा करना भी शिकार की श्रेणी में आता है। वन्य जीव अधिवक्ता महेंद्र सिंह कच्छावा ने बताया कि राष्ट्रीय पार्क में हथियार लेकर घुसने पर वाइल्ड लाइफ प्रोटेक्शन एक्ट 1972 की धारा 2 व 9 तथा 51 में 3 से 7 वर्ष की सजा का प्रावधान है।

जाजू ने शिकारियों की जमानत होने पर कहा कि यह वन विभाग के जिम्मेदार अधिकारियों की न्यायालय में कमजोर पैरवी व मिलीभगत को दर्शाता है। जाजू ने बताया कि पिछले दिनों बूंदी के रामगढ़ विषधारी अभयारण्य में हुए सांभर के शिकार के बावजूद रणथंबोर से बाघों को छोड़ने की तैयारी चल रही है।

ऐसे में जाजू ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से मुकुंदरा टाइगर रिजर्व व रामगढ़ विषधारी में सुरक्षा के पुख्ता प्रबंध करने के पश्चात ही बाघों को छोड़ने की बात कहते हुए बताया कि एक समय सरिस्का में फॉरेस्ट के अधिकारियों की लापरवाही से सरिस्का बाघ विहीन होकर सभी बाघ शिकारियों की भेंट चढ़ गए थे, उक्त घटना को दृष्टिगत रखना चाहिए। 

सड़क पर दौडा पैंथर, फिर पेड़ पर चढ़ गया

राजस्थान में सीकर जिले के अजीतगढ कस्बे में रविवार को एक पैंथर आबादी क्षेत्र में घुस आया और दहशत फैला दी। पैंथर पहले एक दुकान में जा घुसा और बाद में पेड़ पर चढ़  गया।

अजीतगढ कस्बा वन क्षेत्र के नजदीक है और यहां अक्सर पैंथर व अन्य वन्य जीव आबादी क्षेत्र के आसपास घूमते हुए मिल जाते है। रविवार दोपहर में इसी तरह एक पैंथर कस्बे में घुस आया और सड़कों पर दौड़ता हुआ नजर आया। यह मुख्य बाजार में आ गया और बस स्टैंड तक जा पहुंचा। पैंथर को कस्बे के बीचोंबीच दौड़ता हुआ देखकर लोगों में दहशत फैल गई।

पैंथर दौड़ता हुआ पहले वह एक दुकान में घुसा और उसके बाद बड़गुर्जरों के मोहल्ले में घुस गया। इसके बाद वह यहां वहां दौड़ता हुआ गौशाला के पास स्थित बड़ के पुराने पेड़ पर चढ़ गया। लोगों ने वन विभाग को सूचित किया। पेड़ के नीचे लोगों की भारी भीड़ जमा हो गई। वन विभाग की टीम करीब तीन घंटे से भी ज्यादा समय तक इसे ट्रेक्युलाइज करने का प्रयास करती रही, लेकिन पत्तों की आड़ के कारण सफल नहीं हो पाई। इस पूरे दौरान कस्बे में दहशत का माहौल रहा।

Posted By: Preeti jha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस