जयपुर, नरेन्द्र शर्मा। Rajasthan Politics: राहुल गांधी (Rahul Gandhi) के कांग्रेस अध्यक्ष बनने से इनकार और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) के पर्चा दाखिल करने के फैसले के बाद राजस्थान में राजनीतिक गतिविधियां तेज हो गई हैं। गहलोत ने सीएम पद छोड़ने की बात कही है। ऐसे में पूर्व उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट (Sachin Pilot) को मुख्यमंत्री पद के लिए सबसे मजबूत माना जा रहा है। सूत्रों के अनुसार, गांधी परिवार ने पायलट को सीएम बनाने के संकेत दिए हैं। कोच्चि में राहुल और दिल्ली में सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) से मुलाकात के बाद सचिन पायलट शुक्रवार दोपहर बाद जयपुर पहुंचे। पायलट ने विधानसभा पहुंचकर विधानसभा अध्यक्ष डा. सीपी जोशी (CP Joshi) के साथ बैठक की। इसके बाद वे विधायकों से मिले। कई विधायकों ने तो उन्हें भावी सीएम बताते हुए बधाई भी दी।

जाट मुख्यमंत्री बनाए जाने की मांग भी उठी

इस बीच, कांग्रेस सरकार को समर्थन दे रहे राष्ट्रीय लोकदल के कोटे से मंत्री बने सुभाष गर्ग और माकपा विधायक बलवान पूनिया ने खुलकर गहलोत का समर्थन देने की बात कही है। उधर, राजस्थान में जाट विधायक को मंत्री बनाए जाने की मांग भी उठी है। राजस्थान जाट महासभा के अध्यक्ष राजाराम मील ने कहा कि जाट समाज के विधायक कांग्रेस में काफी संख्या में है। जाट समाज ने 2019 के चुनाव में कांग्रेस को वोट दिया था। ऐसे में अब जब गहलोत कांग्रेस अध्यक्ष बनकर मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे रहे हैं तो किसी जाट विधायक को सीएम बनाया जाना चाहिए। मील ने जाट समाज के विधायकों से बात भी की। जाट समाज के विधायकों ने विधानसभा में अलग से अनौपचारिक बैठक भी की।

गहलोत खेमे के विधायक पायलट से मिले

पायलट विधानसभा पहुंचे तो गहलोत खेमे के आधा दर्जन विधायकों ने उनसे मुलाकात की। इनमें गुजरात कांग्रेस के प्रभारी रघु शर्मा,नागरिक आपूर्ति मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास, सहकारिता मंत्री उदयलाल आंजना,शिक्षा राज्यमंत्री जाहिदा खान बाबूलाल नागर,ओमप्रकाश हूडला,बाबू लाल बैरवा शामिल हैं। खाचरियावास ने एक दिन पहले गहलोत के ही सीएम रहने की बात कही थी,लेकिन आज उनके सुर बदले हुए थे । सूत्रों के अनुसार गहलोत 26 से 28 सितंबर के बीच अध्यक्ष पद के लिए नामांकन दाखिल करेंगे और उसके बाद प्रदेश में सीएम का फैसला होगा। गहलोत अब भी पायलट को सीएम बनाए जाने के पक्ष में नहीं है। वे जोशी और कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा में से किसी एक को सीएम बनाना चाहते हैं। हालांकि पायलट खेमा गांधी परिवार से मिले आश्वासन के बाद सीएम पद को लेकर पूरी तरह से आश्वस्त हैं। गहलोत का कहना है कि विधायकों से राय कर के अगले सीएम का फैसला होगा। सोनिया और प्रदेश प्रभारी अजय माकन अंतिम निर्णय करेंगे।

गहलोत बोले, नामांकन दाखिल करूंगा

राहुल से कोच्चि में मुलाकात के बाद गहलोत ने अध्यक्ष पद पर नामांकन दाखिल करने की घोषणा की है। राहुल ने गांधी परिवार के बाहर के नेता को अध्यक्ष बनाने की बात दोहराई है। गहलोत ने मीडिया से बातचीत में कहा कि देशभर में प्रदेश कांग्रेस कमेटियों ने राहुल को अध्यक्ष बनाने का प्रस्ताव पारित कर के भेजे हैं, लेकिन राहुल नहीं मान रहे हैं। सीएम पद छोड़ने के सवाल पर उन्होंने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष जो बनता है, और आज तक जो भी कांग्रेस अध्यक्ष बना है, वह मुख्यमंत्री नही रहा। मैं अध्यक्ष के पद पर ही काम करूंगा।

यह भी पढ़ेंः राजस्थान के सीएम पद की रेस में शामिल इन नेताओं के बारे में जानें रोचक तथ्य

यह भी पढ़ेंः अशोक गहलोत कांग्रेस अध्यक्ष बने तो कौन होगा राजस्थान का अगला सीएम, इन नेताओं के नाम की है चर्चा

Edited By: Sachin Kumar Mishra