जयपुर, जेएनएन। जयपुर के खोनागोरियां थाना इलाके में हॉकर की हत्या के बाद मचे बवाल और लाठीचार्ज के मामम ले में थाना अधिकारी वीरेन्द्र सिंह को निलंबित कर दिया गया है। थानाअधिकारी को निलंबित करने की मांग को लेकर भाजपा नेताओं ने थाने पर धरना दिया। पुलिस प्रशासन ने थाना अधिकारी को सस्पेंड कर पीड़ित परिवार को पांच लाख रुपये मुआवजा देने का आश्वासन दिया। इसके बाद धरना समाप्त कर दिया गया। कई वरिष्ठ नेता शामिल हुए।

गुरुवार को यहां रफीक नाम के एक व्यक्ति मुन्ना नाम के हाॅकर की हत्या कर दी गई थी। हत्या के बाद माहौल तनावपूर्ण बन गया था। आरोपितों को गिरफ्तार करने की मांग को लेकर भाजपा के नेता और कार्यकर्ता खोनागोरियां थाने पर धरना-प्रदर्शन करने पहुंचे तो पुलिस ने लाठीचार्ज कर दिया। इस दौरान पूर्व संसदीय सचिव कैलाश वर्मा सहित कई कार्यकर्ता घायल हो गए थे। वहीं, पूर्व मंत्री कन्हैया लाल मीणा घायल कैलाश वर्मा को अपनी गाड़ी में बैठाकर अस्पताल लेकर जाने लगे तो पुलिसकर्मियों ने उनके साथ भी बदसलूकी की, थाने में बैठा दिया। घटनाक्रम की कवरेज कर रहे पत्रकारों के साथ भी पुलिस ने मारपीट की।

इसके बाद पार्टी के कई वरिष्ठ नेता थाने पहुंचे। उन्होंने दोषी पुलिसकर्मियों को सस्पेंड करने के साथ पीड़ित परिवार को मुआवजा राशि और परिवार के सदस्य को सरकारी नौकरी देने की मांग करते हुए धरना शुरू कर दिया। देर शाम को पुलिस के आला अधिकारियों ने उनकी मांगों पर सकारात्मक आश्वासन दिया। इसके बाद धरना समाप्त कर दिया गया। 

यह भी पढ़ेंः जयपुर में अखबार के पैसे मांगने पर हाॅकर की हत्या, पथराव; लाठीचार्ज

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस