मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

जागरण संवाददाता, जयपुर। अंतरराष्ट्रीय सीमा पार कर भारतीय सीमा में प्रवेश करते समय पकड़े गए पाकिस्तानी नागरिक ने कई अहम खुलासे किए हैं। उसने बताया कि वह पाकिस्तान से सटे राजस्थान के जैसलमेर, बाड़मेर और श्रीगंगानगर जिलों में सेना की छावनियों, बीएसएफ की चौकियों व पुलिस थानों के बारे में जानकारी जुटाने के लिए यहां आया था। पाकिस्तान में सींध प्रांत के अमरकोट जिले के पीरकोट गांव निवासी भागचंद को सोमवार शाम तारबंदी पार कर बाड़मेर जिले के मुनाबाव अकली गांव में प्रवेश करते हुए पकड़ा गया था।

सुरक्षा एजेंसियों की पूछताछ में उसने बताया कि वह सीमा चौकियों पर जवानों की तैनाती के बारे में जानकारी जुटाने के लिए स्थानीय लोगों का सहयोग लेने की योजना बनाकर आया था। लेकिन अपनी योजना को अमल में लाने से पहले ही वह पकड़ा गया। दो दिन तक चली पूछताछ में उसने बताया कि अमरकोट निवासी सलीम खान पठान नामक व्यक्ति ने उसे भेजा था। इसके लिए उसे पैसा दिया गया था। भागचंद से गडरारोड़ पुलिस स्टेशन में दो दिन तक पूछताछ करने के बाद बुधवार को बाड़मेर जिला मुख्यालय पर लाया गया। बाड़मेर में उससे आगे की पूछताछ होगी। जांच में सामने आया कि गहरे हरे रंग की कमीज और पायजामा पहनकर तारबंदी के पास उगी हरी घास का फायदा उठा कर भागचंद ने सीमा में प्रवेश किया। हरे रंग के कपड़े पहनने का मकसद था कि घास का रंग भी इसी तरह का होने के कारण वह आसानी से सीमा में प्रवेश कर सकेगा।

बीएसएफ डीआईजी बोले, अब संयुक्त पूछताछ करेंगे

सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के बाड़मेर सेक्टर के डीआईजी गुरूपाल सिंह ने बताया कि अब पाक नागरिक भागचंद से सुरक्षा एजेंसियां संयुक्त पूछताछ करेगी। सीमा पर अलर्ट जारी है। उधर, भारतीय सुरक्षा एजेंसियों को आशंका है कि भागचंद को यहां भेजना पाक का ड्राइ रन (पूर्वाभ्यास) हो सकता है। दरअसल, सीमा पार से किसी घुसपैठ को अंजाम देने के लिए आईएसआई कई बार डमी व्यक्ति को भेजकर रास्ते की टोह लेती है। सूत्रों के मुताबिक, सुरक्षा एजेंसियों को यह सूचना मिली है कि पाक खुफिया एजेंसियां भारतीय सीमा चौकियों व सैनिकों के बारे में जानकारी जुटाने में जुटी है। 

Posted By: Sachin Mishra

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप