जागरण संवाददाता, जयपुर। राजस्थान में एक ऐसा भी पुलिस थाना है, जिसमें सात साल में मात्र 59 मामले दर्ज हुए हैं। इस पुलिस थाने में 416 पुलिसकर्मी तैनात हैं। यह जयपुर मेट्रो पुलिस थाना है। इस थाने में तैनात पुलिसकर्मी जयपुर मेट्रो के कुल नौ स्टेशनों की सुरक्षा करने के साथ ही मेट्रो के सफर में भी साथ रहते हैं। साल 2013 में शुरू हुए इस पुलिस थाने में अब तक 59 मामले दर्ज हुए हैं, इनमें मौजूदा साल में अब तक मात्र एक मामला दर्ज हुआ है।

आंकड़ों के अनुसार, साल 2013 में कुल 15, साल 2014 में 32, साल 2015 में सात, साल 2016 में एक, साल 2017 में दो, साल 2018 में एक और वर्तमान साल में अब तक एक ही मामला दर्ज हुआ है। कम मामले दर्ज होने का कारण बताते हुए पुलिस अधिकारी कहते हैं कि जयपुर में मेट्रो अधिक सफल नहीं हो सकी है। 40 लाख की आबादी वाले शहर में स्थानीय लोग कम सफर करते हैं, इसमें बाहरी लोग अधिक बैठते हैं। बाहरी लोगों के साथ यदि कोई वारदात हो भी जाती है तो पुलिस के चक्कर लगाने के बजाय शांत रहना पसंद करते हैं। इसके साथ ही पुलिस अधिकारी मेट्रों में जवानों की अधिक सक्रियता को कम वारदात का कारण मानते हैं।

महिलाओं के खिलाफ बढ़े अपराध

उधर, राजस्थान पुलिस के आंकड़ों के अनुसार पिछले साल के मुकाबले इस साल महिलाओं के खिलाफ अपराधों की संख्या में बढ़ोतरी हुई है। आंकड़ों के अनुसार, पिछले साल महिलाओं के खिलाफ 15,242 मामले दर्ज हुए थे, वहीं इस साल अब तक 25,812 मामले दर्ज हो चुके हैं। पिछले साल घरेलू हिंसा के 5,884 मामले दर्ज हुए थे, वहीं इस साल अब तक 11,530 मामले दर्ज हो चुके हैं। पिछले साल महिलाओं से छेड़छाड़ के 3,171 मामले दर्ज हुए थे, वहीं इस साल 5,421 मामले दर्ज हो चुके हैं। पिछले साल के मुकाबले इस साल सामूहिक दुष्कर्म के मामलों में भी 25 फीसद की बढ़ोतरी हुई है। 

राजस्थान की अन्य खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Sachin Mishra

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप