राज्य ब्यूरो, जयपुर। टिड्डियों के हमले से परेशान राजस्थान में अब ड्रोन के जरिए उन पर नियंत्रण की कवायद की जा रही है। बुधवार को जयपुर के पास सामोद में टिड्डियों पर कीटनाशक छिड़काव के लिए ड्रोन का उपयोग किया गया और इससे काफी हद तक सफलता भी मिली। जयपुर में पिछले दो दिन में दो बार टिड्डी दल का आक्रमण हुआ और शहर से निकलकर यह टिड्डी दल आसपास के गांवों तक जा पहुंचा। मंगलवार को जयपुर जिले के जमवारामगढ़, लांगडि़यावास और डांगरवाड़ा में पहुंची टिड्डियां रात में खेतों में जाकर बैठ गई।

इस दौरान कृषि अधिकारियों द्वारा खेतों में रातभर टिड्डी नियंत्रण अभियान चलाया गया। इसी तरह सामोद में ड्रोन के जरिए कीटनाशक का छिड़काव किया गया। कृषि आयुक्त डॉ. ओमप्रकाश ने बताया कि ऊंचाई वाले और ऐसे क्षेत्र जहां आसानी से माउंटेड स्प्रेयर और फायर ब्रिगेड नहीं जा सकती, वहां ड्रोन का उपयोग फायदेमंद साबित होगा। पहाड़ी, संकरे रास्तों और कांटों वाले क्षेत्रों में आसानी से टिड्डी नियंत्रण हो पाएगा।

डॉ. ओमप्रकाश के मुताबिक, अभी किराए पर ड्रोन की व्यवस्था की गई है। आने वाले दिनों में भी किराए पर ही ड्रोन लेकर टिड्डी नियंत्रण में उपयोग लिया जाएगा। उन्होंने बताया कि ड्रोन 15 मिनट की उड़ान में ढाई एकड़ क्षेत्र में कीटनाशक का छिड़काव किया जा सकता है। ड्रोन के अलावा 800 स्प्रेयर लगे ट्रैक्टर, 54 वाहन और फायर ब्रिगेड आदि का इस्तेमाल भी किया जा रहा है।

राजस्थान के बाद अब हरियाणा में प्रवेश कर रहे टिड्डी दल के हमले का खतरा बढ़ गया है। हरियाणा से सटे राजस्थान के जिले में टिड्डी दल देखा गया है। इसके बाद हरियाणा सरकार ने अलर्ट जारी कर दिया है। राजस्थान से सटे जिलों नूंह, महेंद्रगढ़, भिवानी, रेवाड़ी, हिसार, भिवानी, चरखी दादरी व सिरसा के डीसी को सभी तैयारियां कर टिड्डी दल पर काबू पाने के तमाम आदेश दिए हैं। हरियाणा सरकार ने इन सभी डीसी को नियमित रूप से मुख्यालय के संपर्क में रहने को कहा है। कृषि विभाग के अधिकारियों को हाई-अलर्ट पर रखा गया है। सभी जिलों में दवाइयों का भंडारण किया जा चुका है।

प्रदेश के कृषि मंत्री जयप्रकाश दलाल का दावा है कि कृषि विभाग टिड्डी दल से निपटने के लिए मुस्तैद है। तीन-चार साल पहले भी पाकिस्तान के रास्ते टिड्डी दल ने हरियाणा में फसलों पर हमला किया था। हरियाणा के कृषि सचिव संजीव कौशल के अनुसार प्रदेश सरकार इस विषय पर चिंतित हैं। दक्षिणी हरियाणा और राजस्थान से सटे हुए जिले हाई अलर्ट पर हैं। इन जिलों में पर्याप्त मात्रा में दवाइयों का भंडारण किया गया है। उन्होंने कहा कि टिड्डी दलों के लिए सरकार की तैयारियां पर्याप्त है। कृषि विभाग के अधिकारी तैयार हैं। साथ ही, किसानों को जागरूक किया जा रहा है। जहां पर सूचना मिलेगी वहां पर टिड्डी दल को खत्म किया जाएगा। कृषि मंत्री जेपी दलाल के अनुसार हरियाणा के लिए बचाव की यह बात है कि हवा के रुख के साथ टिड्डी दल राजस्थान-गुजरात चला गया है। हरियाणा में इक्का-दुक्का जगहों पर टिड्डी को देखा गया है। गुजरात, राजस्थान समेत कई राज्य सरकारों ने अलर्ट घोषित किया है।

 

Posted By: Sachin Kumar Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस