जयपुर, राज्य ब्यूरो। राजस्थान में अब सरकारी कॉलेजों के छात्रों को अपने व्याख्यान (लेक्चर) छूटने की चिंता नहीं रहेगी। उनके लिए सभी विषयों के प्रमुख पाठों के व्याख्यान यूट्यूब पर उपलब्ध करवाए जाने की योजना है। कॉलेज शिक्षा आयुक्त ने प्रदेश के 64 सरकारी कॉलेजों को अपने यूट्यूब चैनल बनाने के लिए कहा है, जिन पर ये व्याख्यान उपलब्ध होंगे।

गौरतलब है कि प्रदेश में कॉलेज शिक्षा विभाग सरकारी कॉलेजों में व्याख्याताओं के व्याख्यान मोबाइल से रिकॉर्ड करवा रहा है। अब तक काफी संख्या व्याख्यान रिकॉर्ड भी हो चुके हैं। इन रिकॉर्डेड लेक्चर्स को अब यूट्यूब पर उपलब्ध कराया जा रहा है। इसके लिए 64 सरकारी कॉलेजों के प्राचार्यों को कॉलेज शिक्षा आयुक्त प्रदीप कुमार बोरड़ ने निर्देश दिए हैं कि वे उनके यहां रिकॉर्ड किए गए व्याख्यानों के अनुमोदन के लिए कॉलेज में ही विशेषज्ञ समिति गठित करें और अनुमोदन के बाद कॉलेज का यूट्यूब चैनल बनाकर उस पर इन व्याख्यानों को अपलोड कराएं। यह काम 18 जनवरी तक करने के लिए कहा गया है।

योजना से जुड़े अधिकारियों का कहना है कि इससे छात्रों को लेक्चर छूटने का डर नहीं रहेगा। छात्र अपने कॉलेज ही नहीं बल्कि दूसरे कॉलेजों में पढ़ाए जा रहे विषयों के लेक्चर भी देख सकेंगे क्योंकि यूट्यूब चैनल सबके लिए उपलब्ध है।

गौरतलब है कि कॉलेज शिक्षा विभाग की ओर से ही प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए भी इसी तरह व्याख्यान यूट्यूब पर उपलब्ध करवाए गए हैं और करीब 250 घंटे के व्याख्यान यूट्यूब पर उपलब्ध हैं जो सबके लिए उपयोगी साबित हो रहे हैं और करीब 60 हजार छात्र इसका फायदा उठा रहे हैं।

प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कराएगी गहलोत सरकार

राजस्थान का उच्च शिक्षा विभाग सरकारी भर्तियों और विभिन्न उच्च शिक्षा पाठयक्रमों में प्रवेश के लिए विद्यार्थियों को तैयार करेगा। इसके लिए विशेष कोचिंग पर फोकस किया गया है। सरकार के कॉलेज शिक्षा आयुक्त खुद इसकी पढ़ाई कराएंगे। इसके लिए 'कमिश्नर की क्लास' का कार्यक्रम शुरू किया जाएगा।

राजस्थान के सरकारी कॉलेजों में विद्यार्थियों को प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कराने के लिए प्रतियोगिता दक्षता कार्यक्रम चल रहा है। इसके तहत यू-टयूब चैनल बना कर उस पर करीब ढाई सौ घंटे का कंटेंट अपलोड गया है और प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने वाले करीब 60 हजार विद्यार्थी इस निशुल्क कोचिंग का फायदा उठा रहे हैं।

राजस्थान के उच्च शिक्षा मंत्री भंवरसिंह भाटी ने विवेकानंद जयंती पर इसी कार्यक्रम को आगे बढ़ाते हुए कुछ और नई घोषणाएं की हैं। उनका कहना है कि आज का समय प्रतिस्पर्धा का है। युवाओं को अध्ययन के साथ-साथ प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए मार्गदर्शन की भी विशेष रूप से आवश्यकता महसूस की जा रही है। इसीलिए प्रदेश मे गुणात्मक शिक्षा के साथ ही कॅरियर मार्गदर्शन पर भी हमारा विशेष ध्यान है। इसके लिए राज्य सरकार की ओर से चलाई जा रही फ्री कोचिंग सुविधा के अच्छे परिणाम आए हैं।

150 महाविद्यालयों में 60 हजार को नि:शुल्क कोचिंग

राज्य में 150 से अधिक राजकीय महाविद्यालयों में लगभग 60 हजार विद्यार्थियों को नि:शुल्क कोचिंग का लाभ मिला है। इसी के तहत अब प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के लिए जयपुर में विशेष अभियान के तहत कमिश्नर की क्लास योजना की शुरुआत होगी।

राजस्थान की अन्य खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

Posted By: Sachin Kumar Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस