नई दिल्ली, प्रेट्र। सड़क परिवहन व राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि उनका मंत्रालय दिल्ली से जयपुर तक इलेक्ट्रिक हाइवे के निर्माण के लिए एक विदेशी कंपनी के साथ बातचीत कर रहा है। गडकरी ने राजस्थान के दौसा में दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेसवे (डीएमई) की प्रगति की समीक्षा करते हुए कहा कि इलेक्ट्रिक रेलवे इंजन की तरह बसों और ट्रकों को भी बिजली से चलाया जाएगा। उन्होंने कहा कि दिल्ली से जयपुर तक इलेक्ट्रिक हाइवे बनाना मेरा सपना है। यह अभी एक प्रस्तावित परियोजना है। हम एक विदेशी कंपनी के साथ चर्चा कर रहे हैं। गडकरी ने कहा कि एक परिवहन मंत्री के तौर पर उन्होंने देश में पेट्रोल और डीजल के उपयोग को खत्म करने का संकल्प लिया है। गडकरी ने गुरुवार को दिल्ली- मुंबई एक्सप्रेसवे की प्रगति की समीक्षा की, जिसके चालू होने पर सड़क मार्ग से राष्ट्रीय राजधानी और देश की आर्थिक राजधानी के बीच का सफर 24 घंटे की जगह 12 घंटे में पूरा होने की उम्मीद है। आठ लेन का यह एक्सप्रेसवे दिल्ली, हरियाणा, राजस्थान, मध्य प्रदेश और गुजरात होते हुए महाराष्ट्र की राजधानी मुंबई तक जाएगा।

यूट्यूब पर गडकरी हर महीने कमाते हैं चार लाख रुपये

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने शुक्रवार को गुजरात के भरूच में कहा कि उन्हें हर महीने यूट्यूब से रायल्टी के तौर पर चार लाख रुपये मिलते हैं। इसकी बड़ी वजह महामारी के दौरान इंटरनेट मीडिया पर डाले गए उनके व्याख्यान से जुड़े वीडियो को देखने वालों की संख्या बढ़ी है। भरूच में दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेसवे के काम में हुई प्रगति की समीक्षा करते हुए उन्होंने कहा कि उनके मंत्रालय ने सड़क बनाने वाले ठेकेदारों और परामर्शदाताओं को रेटिंग देनी शुरू कर दी है। गडकरी ने कहा कि मैंने कोरोना महामारी के दौरान दो काम किए। पहले तो मैं अपने घर का रसोइया बन गया और दूसरा वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से व्याख्यान देने लगा। मैंने आनलाइन 950 से अधिक व्याख्यान दिए। इसमें विदेशी विश्वविद्यालयों के छात्रों को दिए गए व्याख्यान भी शामिल हैं। इन सभी वीडियो को यू-ट्यूब पर अपलोड किया गया। इससे मेरे दर्शकों की संख्या बढ़ी और अब मुझे वहां से चार लाख रुपये रायल्टी के तौर पर मिल रहे हैं।

Edited By: Sachin Kumar Mishra