जयपुर , जागरण संवाददाता।  राजस्थान में चित्तोडगढ़ जिले के राजपुरिया गांव को न्यूजीलैंड के आधा दर्जन पर्यटकों ने गोद लिया है । ये पर्यटक 500 की आबादी वाले राजपुरिया गांव में भील समाज के परिवारों को समाज की मुख्य धारा से जोड़ने का काम कर रहे है ।

इन परिवारों के बच्चों की शिक्षा,चिकित्सा सहित अन्य समस्त खर्च न्यूजीलैंड के लोग ही वहन कर रहे हैं । जानकारी के अनुसार करीब 4 साल पहले न्यूजीलैंड के पर्यटकों का 6 सदस्यीय दल चित्तोडगढ़ फोर्ट भ्रमण के लिए आया था । इस दल ने सड़क मार्ग से गुजरते हुए राजपुरिया गांव का हाल देखा । दल में शामिल सभी पर्यटक गांव में पहुंचे और यहां रह रहे भील परिवारों की हालत देखकर,उनके लिए कुछ करने की ठान ली । शुरूआत में दल के सदस्यों ने गांव के एकमात्र प्राथमिक स्कूल में एक कमरा बनवाया,इससे पहले स्कूल कच्चे छप्पर के नीचे चलता था ।

इसके बाद पिछले साल छह सदस्यीय यह दल फिर राजपुरिया गांव पहुंचा और ग्रामीणों के साथ चौपाल पर चर्चा की । स्थानीय भाषा समझने के लिए एक शिक्षक का सहारा लिया । इस चर्चा में सामने आई ग्रामीणों की समस्या के बाद यहां प्राथमिक चिकित्सा केन्द् के लिए एक कमरा बनवाया और ग्रामीणों के लिए स्वास्थ जांच शिविर आयोजित किया ।

यही दल पिछले सप्ताह फिर रायपुरिया गांव आया और इस बार बच्चो चित्तोडगढ़ के एक सिनेमाघर में " परी " फिल्म दिखाने के साथ ही फोर्ट का भ्रमण कराया । स्थानीय प्राथमिक स्कूल के शिक्षक रामदेव का कहना है कि न्यूजीलैंड के पर्यटकों के प्रयास से गांव के लोगों के जीवन स्तर में थोड़ा बहुंत सुधार आया है । लोग अपने बच्चों को स्कूल भेजने लगे हैं । इन पर्यटकों ने इस बार ग्रामीणों को स्थायी रोजगार की व्यवस्था कराने का आश्वासन दिया है ।  

Posted By: Preeti jha

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप