जयपुर, मनीष गोधा। प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी राजस्थान में रविवार से चुनाव प्रचार अभियान की शुरूआत करेंगे। राजस्थान में प्रधानमंत्री का प्रचार अभियान जोधपुर और बाडमेर जैसे दो हाईप्रोफाइल लोकसभा क्षेत्रों की सभाओं से शुरू होगा। रविवार और सोमवार को दो दिन में प्रधानमंत्री की चार सभाएं चित्तौडगढ, बाडमेर और जोधपुर व उदयपुर में होंगी। रविवार को पहली सभा बाडमेर में और दूसरी चित्तौडगढ में होगी। इसके बाद सोमवार को जोधपुर और उदयपुर में सभाएं होंगी।

राजस्थान में 29 अप्रैैल और छह मई को होने वाले मतदान के दोनों चरणों के लिए नामांकन पक्रिया समाप्त हो गई है। ऐसे में राष्ट्रीय स्तर के स्टार प्रचारकों के दौरे शुरू हो रहे है। इस कड़ी में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी भाजपा की ओर से प्रचार अभियान का आगाज करेंगे। लोकसभा चुनाव की अधिसूचना जारी होने से पहले प्रधानमंत्री ने फरवरी में टोंक व चूरू में जनसभाएं की थी। अब अधिसूचना जारी होने के बाद प्रधानमंत्री का राजस्थान में यह पहला दौरा होगा। अभी तक प्रस्तावित कार्यक्रम के अनुसार चार मई तक राजस्थान में प्रधानमंत्री की करीब 10 से 12 सभााएं होनी है। इनमें से चार सभाएं इन दो दिन में होंगी।

राजनीतिक दृष्टि से अहम है बाडमेर और जोधपुर की सभाएं-

प्रधानमंत्री की इन चार सभाओं में से बाडमेर और जोधपुर की सभाएं राजनीतिक दृष्टि से काफी अहम है। यह दोनों सीटे आपस में लगती हुई सीटें है, लेकिन दोनों राजनीतिक दृष्टि से काफी अहम है। यही कारण है कि दोनों ही जगह प्रधानमंत्री की सभाएं रखी गई है। बाडमेर राजस्‍थान का पाकिस्तान से लगता हुआ जिला है। यहां सेना भी तैनात है। यहां से भाजपा प्रत्याशी कैलाश चैधरी का मुकाबला अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में रक्षा मंत्री रह चुके जसवंत सिंह के पुत्र मानवेन्द्र सिंह से है।

मानवेन्द्र सिंह दो बार भाजपा के सांसद रह चुके है, लेकिन अब कांग्रेस में है। मानवेन्द्र सिंह राजपूत समुदाय के स्वाभिमान की बात करते हुए कांग्रेस में गए थे। खुद जसंवत सिंह ने पिछली बार टिकट नहीं मिलने पर यहां से निर्दलीय चुनाव लडा था, हालांकि हार गए थे। ऐसे में यह सीट राजनीतिक दृष्टि से भाजपा के लिए काफी अहम हो गई है। इसी तरह प्रधानमंत्री सोमवार को जोधपुर में सभा करेंगे।

जोधपुर में भाजपा के प्रत्याशी केंद्रीय मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत है और उनका मुकाबला राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के पुत्र वैभव गहलोत से है। केंद्रीय मंत्री होने के अलावा गजेन्द्र सिंह शेखवत राजस्थान में पाटी के प्रदेश अध्यक्ष पद की दौड़ में थे और उस समय उन्हें राजस्थान में पार्टी का भविष्य का चेहरा माना जा रहा था। ऐसे में यह बहुत ही हाई प्रोफाइल मुकाबला हो गया है। इस सीट की अहमियत का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह भी आने वाले दिनों में जोधपुर में रोड शो करेंगे।

इनके अलावा प्रधानमंत्री की सभाए चित्तौडगढ और उदयपुर में हैं। यह दोनों ही सीटें आदिवासी वोटों के लिहाज से अहम सीटें है। इनमें उदयपुर अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षित सीट है और उदयपुर से निकला संदेश पूरे दक्षिणी राजस्थान में पार्टी को प्रभावित करेगा। वहीं चित्तोड़गढ सीट से आदिवासी जिला प्रतापगढ भी जुड़ा है। ऐसे में आदिवासी वोटबैंक के लिहाज से यहां प्रधानमंत्री की सभाएं काफी अहम मानी जा रही है।  

Posted By: Preeti jha

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप