जागरण संवाददाता, जयपुर। राजस्थान में भीषण गर्मी का दौर जारी है। प्रदेश के श्रीगंगानगर जिले में तापमान शनिवार दोपहर में 48 डिग्री और जैसलमेर में 47.8,बाड़मेर में 47.7 सेल्सियस तक पहुंच गया। प्रदेश के अधिकांश जिलों में 45 डिग्री सेल्सियस से अधिक तक तापमान पहुंच गया है। अजमेर, भीलवाड़ा, जयपुर, सीकर, अलवर, जोधपुर, पाली और फलौदी में 45 से 46 डिग्री सेल्सियम के बीच तापमान दर्ज किया गया। गर्मी के बीच ग्रामीण क्षेत्रों में बिजली की कटौती से लोग काफी परेशान हो रहे हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में अघोषित बिजली की कटौती की जा रही है। वहीं, भीषण गर्मी के बीच प्रदेश के लोगों को इस बार बार मानसून समय से पहले आने के कारण राहत मिल सकती है। जयपुर मौसम केंद्र के निदेशक राधेश्याम शर्मा ने बताा कि भारतीय मौसम केंद्र ने इस बार केरल में 27 मई को मानसून आने की संभावना जताई है।

राजस्थान में समय से एक सप्ताह पहले आ सकता है मानसून

मौसम विशेषज्ञों के अनुसार, केरल में मानसून के आने के बाद राजस्थान तक इसे पहुंचने में औसतन 20 दिन का समय लगता है। इसलिए संभावना है कि राजस्थान में मानसून समय से एक सप्ताह पहले 16 से 18 जून के बीच आ सकता है। राजस्थान में बांसवाड़ा और डूंगरपुर के रास्ते मानसून प्रवेश करता है। पिछले साल बांसवाड़ा के रास्ते मानसून 18 जून को प्रवेश किया था। मौसम विभाग ने इस साल मानसून के सामान्य रहने की बात कही है। राज्य में चार महीने के मानसून में औसतन 415 एमएम बारिश होती है। पिछले साल 485.30 एमएम बारिश हुई थी, जो सामान्य से 17 फीसद ज्यादा थी। मौसम विभाग ने उत्तर-पूर्वी हिस्से के बीकानेर, हनुमानगढ़, श्रीगंगानगर और चूरू जिलों में सामान्य से कम बारिश होने और दक्षिण-पूर्वी हिस्से के कोटा, सवाईमाधोपुर, जयपुर, अलवर, झुंझुनूं, दौसा, धौलपुर, बारां, बांसवाड़ा, डूंगरपुर, उदयपुर और टोंक जिलो में सामान्य से थोड़ी ज्यादा बारिश होने की संभावना जताई है। भीषण गर्मी से परेशान लोगों को बारिश से ही राहत मिलेगी।

Edited By: Sachin Kumar Mishra