संवाद सूत्र, उदयपुर। कर्ज चुकाने की यह कहानी इंसानियत को शर्मसार करने वाली है। राजस्थान के उदयपुर में एक व्यक्ति ने कर्ज उतारने के लिए ऐसा काम किया जिसे सुनकर आप चौंक जाएंगे। उसने अपनी पत्नी को ही कर्जदारों को सौंप दिया। साहूकारों ने भी इंसानियत नहीं दिखाई और उस असहाय महिला का यौनशोषण किया। इतना ही नहीं साहूकारों ने उसका वीडियो बना लिया और उसे ब्लैकमेल करने लगे। कहानी का पर्दाफाश तब हुआ जब आरोपितों ने महिला की बेटी पर बुरी नजर डाल दी तब पीड़िता का सब्र का बांध टूट गया।

मकाने के लिया था 28 लाख का कर्ज
पीड़िता उदयपुर शहर के हिरणमगरी थाना क्षेत्र की है। उसने बताया कि उसका पति मार्केटिंग का काम करता है। दो वर्ष पहले उसने 28 लाख रुपये में एक मकान किश्तों में खरीदा था, जहां वह परिवार के साथ रह रही थी। घर खरीदने के बाद उसके पति के व्यवहार में परिवर्तन आ गया।


साहूकारों ने किया परेशान तो, पत्‍नी को बोला बनाओ संबध
दरअसल, कर्जा देने वाले लोग उसके पति को तंग करने लगे। इसके बाद पति कर्ज देने वाले लोगों से बात करने, प्रेम संबंध रखने तथा उनको घर बुलाकर अनैतिक संबंध बनाने के लिए उसको मजबूर करने लगा। उसके मना करने पर वह उसके साथ मारपीट करता।
पति के जाते ही साहूकार करने लगे जबरदस्‍ती
पति के घर से निकलने के बाद कर्ज देने वाले लोग उसके घर आने लगे और उसके साथ जबरदस्ती करने लगे। पति की मजबूरी तथा परिवार को संभालने के लिए वह न चाहते हुए सब सहन कर रही थी। किन्तु पिछले दिनों से वह लोग उसकी नाबालिग बेटी से संबंध बनाने के लिए जोर देने लगे, जिसे सोचकर वह सिहर उठी।

बेटी पर डाली नजर तो टूट गया सब्र
पीड़िता ने पुलिस अधीक्षक को बताया कि गायरियावास निवासी अशोक पुत्र शंकरलाल, पल्लू उर्फ प्लास पुत्र अशोक, कीर्तेश उर्फ पन्नालाल, अहमदाबाद निवासी भागेश उर्फ रमेश और कुशाल उर्फ छगनलाल ने कई बार उसके साथ दुष्कर्म किया। इसके साथ ही उसकी अश्लील वीडियो बनाकर उसे ब्लैकमेल कर उसकी नाबालिग बेटी से संबंध बनाने के लिए उसे मजबूर करने लगे।


शिकायत पर पुलिस सख्‍त
पुलिस अधीक्षक से मिले निर्देश के बाद हिरणमगरी थाना पुलिस ने उक्त सभी आरोपितों के खिलाफ दुष्कर्म एवं ब्लैकमेल करने के अलावा उसके पति के खिलाफ भी अलग से मामला दर्ज किया है। हिरणमगरी थाना की पुलिस इसकी जांच कर रही है। अब तक पुलिस ने छह लोगों को नामजद किया है।

Posted By: Prateek Kumar