राज्य ब्यूरो, जयपुर। Locust Attack: राजस्थान के विभिन्न हिस्सों में टिड्डी दलों का हमला लगातार जारी है। मंगलवार को जयपुर के कुछ इलाकों में लगातार दूसरे दिन टिड्डी दल देखा गया, वहीं हनुमानगढ़ जिले में भी कुछ स्थानों पर टिड्डी दल नजर आया। इस बीच राजस्थान सरकार ने दावा किया है कि अब तक 61 हजार हेक्टेयर क्षेत्र में टिड्डी दल से बचाव के उपाय किए गए हैं। राजस्थान में पिछले कुछ दिनों में विभिन्न जिलों में टिड्डी दल के हमलों का सिलसिला जारी है। जयपुर शहर में टिड्डी दल शहर के विश्वकर्मा, सीकर रोड, पांच नंबर पुलिया, नौ नंबर पुलिया, 14 नंबर पुलिया और नाड़ी का फाटक इलाकों से होता हुआ पास के गांवों में चला गया।

इस दौरान लोग टिड्डियों को भगाने के लिए पारंपरिक तरीके अपनाते नजर आए। उन्होंने थालियां बजाकर और पटाखे फोड़कर टिड्डियों को भगाया। मंगलवार को आया टिड्डी दल करीब तीन किमी लंबा और करीब डेढ़ से दो किमी चौड़ा था। वहीं एक अन्य दल सामोद के आसपास के गांवों में देखा गया। जयपुर जिले में अब तक चार टिड्डी दलों ने प्रवेश किया है। इनमें से दो दल जिले से बाहर भी जा चुके हैं। जयपुर के अलावा मंगलवार को हनुमानगढ़ के पास पीलीबंगा में टिड्डियों ने हमला किया। किसानों ने थाली, पीपे और बर्तन बजाकर टिड्डियों को भगाने की कोशिश की।

इसी बीच, राजस्थान सरकार ने दावा किया है कि कृषि विभाग एवं टिड्डी चेतावनी संगठन के समन्वित प्रयास से प्रदेश में प्रभावी टिड्डी नियंत्रण किया जा रहा है। अभी टिड्डियों पर जमीनी मार की जा रही है, लेकिन इससे वे पूरी तरह काबू में नहीं आ रही हैं। लिहाजा अब सरकार टिड्डियों पर हेलिकॉप्टरों और ड्रोन के जरिए नियंत्रण की तैयारी कर रही है। जल्द ही इसके लिए नैनो पार्टिकल्स तकनीक पर आधारित उपकरण इंग्लैंड से भारत पहुंचेंगे।

कृषि मंत्री लालचंद कटारिया ने बताया कि अब तक 61 हजार हेक्टेयर से अधिक क्षेत्र में टिड्डी नियंत्रण किया जा चुका है। जहां भी टिड्डी दल आने की सूचना मिल रही है वहां तुरंत पहुंचकर उन्हें नियंत्रित करने का कार्य किया जा रहा है। अब तक जैसलमेर, श्रीगंगानगर, जोधपुर, बाड़मेर, नागौर, पाली, अजमेर, बीकानेर, भीलवाड़ा, जालोर, उदयपुर, चूरू, सिरोही, प्रतापगढ़, चित्तौड़गढ़, दौसा, झालावाड़, सीकर, जयपुर एवं करौली जिलों में टिड्डी नियंत्रण का काम किया गया है। कृषि मंत्री ने बताया कि टिड्डियों के सर्वेक्षण में 120 एवं नियंत्रण के लिए 45 वाहन तथा 800 ट्रैक्टर माउंटेड स्प्रेयर एवं 3200 वाटर टैंकर की स्वीकृति जारी की जा चुकी है।

Posted By: Sachin Kumar Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस