जयपुर, एजेंसी। राजस्थान के सीकर में उस समय एक बड़ा हादसा टल गया जब एक स्कूल बस पानी से भरे एक अंडरपास में फंस गई। इस दौरान बस में कई छात्र मौजूद थे। जैसे ही ये बस अंडरपास में फंसी छात्रों ने शोर मचाना शुरू कर दिया। शोरशराबे को सुनकर स्थानीय लोग मौके पर पहुंचे और उन्होंने बच्चों को बस से बाहर निकालने की कवायद शुरू की। उन्होंने सबसे पहले सभी बच्चों को बस की छत पर एकत्र किया और फिर इसके बाद उन्हें सीढ़ी के सहारे अंडरपास से बाहर निकाला।

सीकर के नीमकाथाना में एक अंडरपास में भरे बारिश के पानी में स्कूल बस फंस गई। बस में करीब 80 बच्चे सवार थे। ड्राइवर ने पानी भरा होने के बावजूद बस उसमें उतार दी। बस के फंसने पर बच्चे रोने-बिलखने लगे। इससे वहां अफरातफरी सी मच गई। लोगों ने अंडरपास की छत पर सीढ़ी लगाकर बच्चों को वहां से निकाला। डेढ़ घंटे में सभी बच्चे सुरक्षित निकाल लिए गए।

सीकर में स्थानीय लोगों की सूझबूझ के चलते एक बड़ा हादसा टल गया। दरअसल स्कूली बच्चों को ले जा रही बस कई फीट गहरे अंडरपास में ज्यादा पानी भरे होने की वजह से फंस गई। इस दौरान बस में मौजूद छात्रों के लिए निकलने का कोई रास्ता नहीं था। तुरंत ही स्थानीय लोगों ने मोर्चा संभाला और सूझ-बूझ दिखाते हुए अंडरपास के ऊपर से सीढ़ी लगाकर बच्चों को निकालने की कवायद शुरू की।

मावंडा बालाजी फाटक के पास अंडरपास में बारिश का पानी भर गया। सुबह सात बजे वहां से एक स्कूल बस निकल रही थी। बस डाबला से नीमकाथाना आ रही थी। बस में करीब 80 बच्चे सवार थे। अंडरपास में भरे पानी में ड्राइवर ने बस उसमें उतार दी। बीच अंडरपास में बस फंस गई। बस फंसते ही बच्चे घबरा गए। कुछ बच्चे रोने लगे। बस को फंसा देख तथा बच्चों का हो-हल्ला सुनकर लोग मदद को आए। लोग सीढ़ी ले आए तथा अंडरपास की छत से बस पर सीढ़ी लटका दी। लोगों ने सीढ़ी को पकड़ लिया तथा नीचे से एक-एक कर बच्चे सीढ़ी के सहारे अंडरपास पर चढ़ते गए। सुबह 8:30 बजे तक सभी बच्चे सुरक्षित निकाल लिए गए।

लोगों ने पहले एक सीढ़ी लगाई। बच्चों की संख्या अधिक होने के कारण उन्होंने एक और बड़ी सीढ़ी मंगवाई। बच्चे धीरे-धीरे सीढ़ी के सहारे ऊपर आते गए। दो सीढी लगाने के बावजूद बच्चों को रेस्क्यू करने में डेढ़ घंटे का समय लगा। बच्चों की बस पानी में फंस जाने की सूचना मिलते ही पेरेंट्स भी वहां पहुंच गए। इससे मौके पर बड़ी संख्या में लोग एकत्र हो गए।

अंडर पास में पानी जमा होने से ग्रामीणों में आक्रोश है। ग्रमीणों का कहना है कि बारिश होने पर अंडरपास में पानी जमा हो जाता है जिससे कई गांव के रास्ते अवरुद्ध हो जाते हैं। इससे ग्रामीणों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है। लोगों का कहना है कि अंडरपास में पानी भरने की परेशानी को लेकर कई बार अवगत कराया, लेकिन प्रशासन ने कोई ध्यान नहीं दिया।

Posted By: Preeti jha