मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

जयपुर, नरेंन्द्र शर्मा। केंद्रीय कृषि राज्यमंत्री कैलाश चौधरी ने राजस्थान सरकार के राजस्व मंत्री हरीश चौधरी पर माफिया गिरोह को पनपाने और बाड़मेर में ऑयल कंपनियों से चौथ वसूली करने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि ऑयल कंपनियों को ब्लैकमेल किया जा रहा है। कैलाश चौधरी ने आरोप लगाया कि हरीश चौधरी ने भ्रष्टाचार की सभी हदें पार कर दी हैं।

उन्होंने आरोप लगाया कि हरीश चौधरी राज्य सरकार में मंत्री पद का दुरुपयोग धन उगाहने में कर रहे हैं। पुलिस व राजस्व विभाग के अधिकारियों के माध्यम से हरीश चौधरी बाड़मेर जिले में ऑयल कंपनियों में भय पैदा कर के चौथ वसूली कर रहे हैं। कैलाश चौधरी ने "दैनिक जागरण" से बातचीत में कहा कि प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद से हरीश चौधरी ने पूरे बाड़मेर जिले में माफिया गिरोह पैदा कर दिए हैं। उधर, हरीश चौधरी ने कैलाश चौधरी के आरोपों से इनकार करते हुए कहा कि उनकी आदत झूंठ बोलने की है। वे आदतन झूठे हैं, केंद्र में मंत्री बनने के बाद भी कैलाश चौधरी की पुरानी आदत में सुधार नहीं हुआ है।

कैलाश चौधरी ने कहा, सीएम का मंत्री को वरदहस्त

केंद्रीय मंत्री कैलाश चौधरी ने कहा कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का वरदहस्त होने के कारण प्रदेश के राजस्व मंत्री ने पिछले आठ माह से बाड़मेर में आतंक मचा रखा है। बाड़मेर में तेल निकलने के कारण जमीनों के भाव आसमान पर पहुंच गए। इसका फायदा राजस्व मंत्री उठा रहे हैं। वे राजस्व विभाग के तहसीलदार और पटवारी के माध्यम से जमीनों पर कब्जा करने में जुटे हैं। ऑयल कंपनियों को पहले तो जमीन अधिग्रहण करने का नोटिस भेजा जाता है और फिर उसके बाद मोटी रकम लेकर मामले को रफा-दफा किया जाता है। कंपनियों में परिवहन से लेकर कर्मचारियों तक के ठेके हरीश चौधरी और उनके परिजनों के पास है। इन्होंने ऑयल कंपनियों से ठेके लेकर बाहर के लोगों को सबलेट कर दिए। उन्होंने कहा कि लोकसभा चुनाव में बाड़मेर सीट से मेरी भारी बहुमत से जीत का कारण हरीश चौधरी का आतंक है। लोग हरीश चौधरी और उनके समर्थकों के कारनामों से परेशान हैं।

उल्लेखनीय है कि विधानसभा चुनाव में बायतु सीट से कैलाश चौधरी ने भाजपा के टिकट पर चुनाव लड़ा था और कांग्रेस प्रत्याशी हरीश चौधरी से चुनाव हार गए थे। बाद में हरीश चौधरी राज्य सरकार में राजस्व मंत्री बने। इसके बाद लोकसभा चुनाव में भाजपा ने कैलाश चौधरी को टिकट दिया और उन्होंने भाजपा के संस्थापक सदस्य जसवंत सिंह के पुत्र व कांग्रेस प्रत्याशी मानवेंद्र सिंह को हराया था। लोकसभा में पहुंचने के बाद कैलाश चौधरी को केंद्र सरकार में कृषि राज्यमंत्री बनाया गया। चुनाव के बाद से ही दोनों नेताओं के बीच आरोप-प्रत्यारोप चलते रहते हैं। 

Posted By: Sachin Mishra

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप