जोधपुर, रंजन दवे। पश्चिमी राजस्थान के सबसे बड़े विश्वविद्यालय कहे जाने वाले जोधपुर के जय नारायण व्यास विश्वविद्यालय में आर्थिक संकट चरम पर है। स्थिति यह है कि आए दिन छात्रों के प्रदर्शन सुनने को मिलते हैं लेकिन अब विश्वविद्यालय से जुड़े कर्मचारी, अधिकारी और विश्वविद्यालय शिक्षक भी अपने वेतन और भत्तों की मांगों को लेकर रजिस्ट्रार कार्यालय और कुलपति कार्यालय पर प्रदर्शन कर रहे हैं और वेतन की मांग कर रहे हैं। ठेका कर्मचारी भी अपने वेतन को लेकर असमंजस में हैं। और तो और पूर्व कुलपतियों के भी पेंशन मामलों पर तलवार ही लटक रही है।

विश्वविद्यालय की स्थिति यह है कि पूर्व भी कई मर्तबा इसकी लिखित शिकायत विवि प्रशासन को दी जा चुकी है इसके बावजूद आज तक इसका कोई स्थाई समाधान नहीं किया गया है । औऱ न ही समय पर शिक्षक एवं कर्मचारियों का वेतन एवं पेंशन का भुगतान नहीं हो रहा है । बीते तीन चार दिनों से विश्व विद्यालय से जुड़े विभिन्न संघटन व्यास विश्वविद्यालय केंद्रीय कार्यालय में कर्मचारियों शिक्षकों ने वेतन - पेंशन सहित विभिन्न मांगों लेकर प्रदर्शन कर रहे हैैं, जिनमें प्रोफेसर , लेक्चरर और पूर्व कुलपति भी शामिल हैं।वेतन अभाव में उनके समक्ष आर्थिक संकट उत्पन्न हो गया है, साथ ही बिना वेतन दिवाली मनाने को लेकर भी असमंजस है।

इनका कहना है :

जेएनवीयू शिक्षक संघ के अध्यक्षप्रो डूंगर सिंह खींची-

विवि में व्याप्त अव्यवस्थाओं द्वारा ही वित्तीय नियोजन गड़बड़ा रहा है । अव्यवस्थाओं का आलम ये ही रोज कर्मचारी और शिक्षक संघ केंद्रीय कार्यालय आ रहे है, ऐसे में दिवाली पर अनियमितता के कारण आर्थिक संकट साफ दिख रहा है।

जोधपुर जेएनवीयू कुलसचिव अयूब खान 

विवि के दोनों संघों के अध्यक्षों से वार्ता हुई है, उनके खाते में वेतन एवं पेंशन के भुगतान को लेकर बात हुई। शीघ्र ही इसे जारी कर दिया जाएगा।

Posted By: Preeti jha

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप