जयपुर, जेएनएन। Coronavirus. राजस्थान राज्य मानवाधिकार आयोग ने राज्य में कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव और उपचार के इंतजामो के बारे में जिला कलक्टरो से रिपोर्ट मांगी है।

मानवाधिकार आयोग के अध्यक्ष जस्टिस महेश चंद्र शर्मा ने गुरूवा को जारी आदेश में कोरोना वायरस से उत्पन्न स्थिति पर प्रसंज्ञान लेते हुए कहा है कि इस विश्वस्तीय महामारी के राजस्थान में प्रवेश की आशंका बताई जा रही है। अंत विषय की गंभीरता को देखते हुए आयोग ने सभी जिला कलक्टरों चिकित्सा व स्वास्थ्य निदेशक से पूछा है कि राज्य के सभी अस्पतालों में कोरोना वायरस से बचाव के उपाय है या नहीं।

इसके साथ ही उन्होंने अस्पतालों में सफाई की व्यवस्था, अभी तक भर्ती मरीजों के उपचार की स्थिति, राज्य के होस्टलों में साफ सफाई, पानी और अन्य व्यवस्थओं के बारे में रिपोर्ट मांगी हैं। आयोग ने कारागार महानिदेशक और सभी जिला पुलिस अधीक्षकों से राज्य के जेलों में इस रोग से बचाव और उपचार के उपायों और साफ सफाई के बारे में रिपोर्ट मांगी हैं।

गौरतलब है कि राजस्थान में अभी तक कोरोना वायरस का कोई रोगी नहीं पाया गया है। हालांकि संदिग्ध पाए जाने पर 73 सेंपल जांच के लिए भेजे गए थे, जिनमें से 72 की रिपोर्ट नेगेटिव आई है। एक की रिपोर्ट आना बाकी हैं। इसके अलावा विदेश से आने वाले 11 हजार अस्सी यात्रियों की स्क्रीनिंग की जा चुकी है। 

गत 30 जनवरी के बाद बुधवार को पहली बार चीन में कोरोना वायरस के सबसे कम मामले सामने आए। चीन के चिकित्सा सलाहकारों का अनुमान है कि अप्रैल के अंत तक यह महामारी खत्म हो सकती है, लेकिन वैश्विक विशेषषज्ञों ने इसके कहीं और शुरू होने की चेतावनी दी है। चीन में संक्रमण के 2,015 नए मामलों का पता चलने के बाद कुल संक्रमित लोगों की संख्या 44,653 और जान गंवाने वालों की संख्या 1113 हो गई है। मंगलवार को 97 लोगों की मौत हुई।

राजस्थान की अन्य खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Sachin Kumar Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस