नरेन्द्र शर्मा, जयपुर। Vasundhara Raje. राजस्थान के परिवहन विभाग में भ्रष्टाचार के मुद्दे को लेकर भाजपा की प्रदेश इकाई द्वारा सरकार को सही ढंग से नहीं घेरने पर पार्टी आलाकमान नाखुश है। पार्टी आलाकमान का मानना है कि विधानसभा सत्र के दौरान परिवहन विभाग में भ्रष्टाचार का मामला उजागर होने और आठ अधिकारियों को भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो के पकड़ में आने को लेकर सत्तारूढ़ दल कांग्रेस को कटघरे में खड़ा किया जा सकता था, लेकिन भाजपा विधायकों ने ना तो सदन के अंदर सरकार के समक्ष मुश्किल पैदा की और ना ही आम लोगों के बीच माहौल बनाया गया। पार्टी आलाकमान का मानना है कि यदि इस मुद्दे को सही ढंग से उठाया जाता तो परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास का इस्तीफा तक हो सकता था।

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा के बेटे के विवाह समारोह के दौरान सोमवार को पुष्कर में जुटे भाजपा नेताओं ने इस विषय को लेकर आपस में चर्चा की। पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष ओमप्रकाश माथुर ने अशोक गहलोत सरकार के खिलाफ कई मामले सार्वजनिक होने का हवाला देते हुए विपक्ष की भूमिका और अधिक सजगता से निभाने की जरूरत बताई। प्रदेश भाजपा अध्यक्ष सतीश पूनिया के कैडर मैनेजमेंट के प्रयासों की तो सराहना की गई, लेकिन सरकार के खिलाफ मुद्दे सही ढंग से उठाने की जरूरत भी बताई।

भाजपा सूत्रों के मुताबिक, नड्डा ने पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे को प्रदेश में सक्रियता बढ़ाने के लिए कहा है। उन्होंने वसुंधरा राजे से कहा कि वह प्रदेश के विभिन्न क्षेत्रों में जाकर कार्यकर्ताओं से रूबरू हों, संगठन को अधिक मजबूत करने के लिए जरूरत पड़ने पर पदाधिकारियों को सलाह भी दें। सूत्रों के अनुसार, अगले सप्ताह दिल्ली में वसुंधरा राजे की नड्डा, केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह और भाजपा के राष्ट्रीय संगठन महामंत्री वी. सतीश के साथ बैठक होगी। इस बैठक में प्रदेश के राजनीतिक हालात को लेकर चर्चा करने के साथ ही वसुंधरा राजे की प्रदेश में सक्रियता बढ़ाने को लेकर भी विचार-विमर्श होगा।

राजस्थान की अन्य खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Sachin Kumar Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस