जागरण संवाददाता, जयपुर। भारी बारिश के चलते राजस्थान के कोटा और आदिवासियों के प्रमुख धार्मिक स्थल बेणेश्वर धाम में बाढ़ के हालात हैं। प्रदेश के बांसवाड़ा जिले में पिछले 35 घंटों से बारिश हो रही है। बांसवाड़ा शहर में पिछले 24 घंटों में 6 इंच बारिश हो चुकी है। बांसवाड़ा में हेरो नदी उफान पर होने के कारण घाटोल-गनोड़ा मार्ग बंद हो गया है। भारी बारिश के चलते आदिवासियों का प्रमुख धार्मिक स्थल बेणेश्वर धाम टापू बन गया है। यहां बाढ़ के हालात हैं। कोटा में भी मंगलवार रात से बारिश हो रही है। मध्य प्रदेश में हो रही बारिश के कारण कोटा बैराज के पांच गेट खोले गए हैं।

कोटा बैराज के गेट खोले जाने के बाद चंबल नदी उफान पर है। कोटा जिले के कई गांवों में जल भराव के कारण लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। भारी बारिश के चलते कोटा से सवाई माधोपुर का मार्ग अवरुद्ध हो गया। वहीं, सवाई माधोपुर-जयपुर मार्ग पर भी वाहनों की आवाजाही रोकी गई है। बारां में परवन नदी उफान पर है। जयपुर में रुक रुक कर तेज बारिश हुई। बारिश से कई इलाकों में पानी भर गया, जिससे ऑफिस जाने वाले लोगों को परेशानी हुई।

10 जिलों में भारी बारिश की चेतावनी

मौसम विभाग ने जयपुर, दौसा, टोंक, सवाई माधोपुर, कोटा, बांसवाड़ा, डूंगरपुर, उदयपुर, दौसा और भरतपुर जिलों में अगले 24 घंटों में भारी बारिश की चेतावनी दी है। प्रदेश में हो रही बारिश के चलते आपदा प्रबंधन विभाग की टीम अलग-अलग स्थानों पर सक्रिय है। कोटा और बांसवाड़ा में आपदा प्रबंधन की टीम के साथ ही केंद्रीय सुरक्षा बल को भी अलर्ट किया गया है।

 

Posted By: Sachin Mishra