जयपुर, जागरण संवाददाता। राजस्थान के मेवात इलाके के अलवर और भरतपुर जिलों में गौवंश की तस्करी किस हद तक बढ़ गई है,इस बात का अंदाजा पिछले तीन साल के आंकड़ों को देखकर लगाया जा सकता है।

पिछले तीन साल में अलवर एवं भरतपुर जिलों में गौतस्करी के 638 मामले दर्ज कर 719 गौतस्करों को गिरफ्तार किया गया है। इनमें से अधिकांश हरियाणा और उत्तरप्रदेश के है। इस दौरान पुलिस और गौतस्करों के बीच हुई मुठभेड़ मे 7 गौतस्कर मारे गए और कई पुलिसकर्मी घायल हुए है।

राजस्थान के मेवात क्षेत्र में हरियाणा और उत्तरप्रदेश के गौतस्करों की बढ़ती गतिविधियों पर लगाम लगाने के लिए पुलिस काफी प्रयास कर रही है,लेकिन गौतस्कर काबू में नहीं आ रहे है। पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार अलवर जिले में पिछले तीन साल में 410 मामले दर्ज किए गए।

इनमें 610 गौतस्करों को गिरफ्तार किया गया है। इस साल मई माह तक गौतस्करों के खिलाफ 39 मामले दर्ज कर 28 गौतस्करों को गिरफ्तार किया गया है।

इसी तरह भरतपुर जिले में तीन साल में 228 मामले दर्ज कर 109 गौ तस्करों को गिरफ्तार किया गया है। तीन साल में एक हजार से अधिक गौवंश को गौतस्करों से मुक्त करवाकर विभिन्न गौशालाओं में भेजा गया है।  

By Preeti jha