जयपुर, जेएनएन। कोरोना वायरस संक्रमण के दौरान राजस्थान में कॉलेज छात्रों की ऑनलाइन पढाई काफी हद तक सफल होती दिख रही है। अब तक करीब एक लाख छात्र कॉलेज शिक्षा विभाग की ओर से शुरू किए गए यूटयूब चैनल व अन्य माध्यमों से उपलब्ध कराए जा रहे ई-कंटेंट का फायदा उठा चुके हैं। इसे देखते हुए ही अब विभाग ने हर सरकारी कॉलेज को अपना खुद का यूटयूब चैनल बनाने के लिए कहा है। 

कोरोना वायरस संक्रमण के कारण हुए लॉकडाउन के दौरान राजस्थान के कॉलेज शिक्षा विभाग ने अपने सभी कॉलेज शिक्षकों को यह निर्देश दिए थे कि इसे छुटिटयां न मानें और घर पर काम करते हुए अपने विषयों से जुडे लेक्चर्स, माडल प्रश्नपत्र, नोटस आदि तैयार करें और इनके वीडियो बना कर यूटयूब के माध्मय से इसे छात्रों तक पहुंचाएं। यह काम अब तक विभाग के खुद के यूटयूब चैनल के जरिए किया जा रहा था, लेकिन अब विभाग ने इसे और विस्तार देने के लिए अब हर सरकारी कॉलेज को अपना खुद का यूटयूब चैनल बनाने के लिए कहा है। 

राजस्थान के कॉलेज शिक्षा आयुक्त प्रदीप बोरड ने इस बारे में सभी कॉलेज प्राचार्यों को पत्र भेजा है। पत्र में कहा गया है कि वर्क फ्राम होम के दौरान काफी अच्छा काम हुआ है और कॉलेज शिक्षकों द्वारा तैयार किए गए ई-कंटेट से करीब एक लाख छात्र लाभान्वित हुए है। इसी को देखते हुए अब सभी कॉलेजों अपने खुद के चैनल बनाने हैं। इन चैनलों पर कॉलेज के शिक्षक अपने वीडियो बना कर अपलोड करें और छात्रों के बीच उनका लिंक शेयर करें। शिक्षकों से कहा है कि छात्र इस समय परीक्षा की तैयारी में जुटे हुए है, इसलिए परीक्षा सम्बन्धी तैयारियों का कंटेंट तैयार करने पर ज्यादा ध्यान दें। गौरतलब है कि विभाग ने लाॅकडाउन शुरू होते ही शिक्षकों को कंटेंटे तैयार करने के निर्देश दे दिए थे और इसकी माॅनिटरिंग के लिए विभाग के स्तर पर कमेटियां भी बनाई थी। विभाग की ओर से शिक्षकों से हर दिन किए गए काम का ब्यौरा ऑनलाइन मांगा जाता है।

Posted By: Vijay Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस