जयपुर, प्रेट्र। राजस्थान में शीतलहर का प्रकोप जारी है। मौसम विभाग के मुताबिक, सर्द हवाओं के चलते ठिठुरन बढ़ गई है। रविवार रात फतेहपुर में न्यूनतम तापमान 1.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। मौसम विभाग के मुताबिक, राज्य के अधिकतर स्थानों पर न्यूनतम तापमान में मामूली वृद्धि दर्ज की गई। न्यूनतम तापमान करौली में 3.2 डिग्री सेल्सियस, अजमेर में 4.6, नागौर में 4.7, सीकर में पांच, पिलानी में 5.2, बूंदी में 5.5, एरणपुरा रोड में 5.6, चुरू में 5.7, अलवर में 5.8, संगरिया में 5.9, धौलपुर में 6.1 डिग्री सेल्सियस रहा। श्रीगंगानगर और जयपुर में प्रत्येक में 6.4 और बनस्थली में 6.7 डिग्री सेल्सियस रहा। राज्य के अधिकांश स्थानों पर अधिकतम तापमान 10 से 25 डिग्री सेल्सियस के बीच दर्ज किया गया। इससे पहले शनिवार को राज्य के एकमात्र पर्वतीय पर्यटन स्थल माउंट आबू में तापमान माइनस दो डिग्री दर्ज किया गया है।

बढ़ी ठिठुरन

फतेहपुर में न्यूनतम तापमान 3.1 डिग्री सेल्सियस, करौली में 2.1,2.7,नागौर में 3.3, बीकानेर में 3.5, अजमेर में 4.7, टोंक और बून्दी में 4.9-4.9, सीकर में 4.4, सवाईमाधोपुर में 4.5, बारां व सिरोही में 5.9-5.9, चुरू में 5.5, उदयपुर में 6.6 व जयपुर में छह डिग्री सेल्सियम तापमान दर्ज किया गया है। राज्य के अधिकांश इलाकों में सर्द हवाओं से ठिठुरन और गलन भरी ठंड बढ़ गई है। राज्य के अधिकांश हिसों में रविवार को सुबह 10 बजे तक कोहरा नजर आया। पश्चिमी राजस्थान में कोहरे के कारण दृश्यता 50 मीटर तक ही रह गई। जयपुर मौसम केंद्र के निदेशक राधेश्याम शर्मा ने बताया कि कोहरे का प्रभाव सोमवार को समाप्त हो जाएगा। आगे मौसम शुष्क रहेगा, जिससे अगले तीन-चार दिन तक सर्द हवाएं चलेंगी। हवा का रुख भी उत्तरी बना हुआ है। उत्तर भारत से आ रहीं सर्द हवाओं के कारण प्रदेश में न्यूनतम तापमान में गिरावट होने लगी है। उधर, वातावरण में नमी मौजूद रहने के कारण सुबह के समय प्रदेश के अधिकांश जिलों में घना कोहरा छाया रहा। दृश्यता शून्य मीटर रही। सुबह दृश्यता 50 मीटर रही। कोहरे के कारण कई जिलों में शीतल दिन रहा। मौसम विज्ञानियों के मुताबिक अभी अगले तीन दिन तक ठंड के तेवर इसी तरह बने रहने के आसार हैं। 

Koo App
ओलावृष्टि से प्रभावित किसानों को कृषि आदान-अनुदान का भुगतान करने के लिए श्रीगंगानगर के 7 गांवों को अभावग्रस्त घोषित किया है। गत वर्ष 23 अक्टूबर को श्रीगंगानगर की अनूपगढ़, विजयनगर तहसील में ओलावृष्टि से खरीफ की फसलों में हुए नुकसान को देखते हुए विशेष गिरदावरी के निर्देश दिए गए थे। जिसमें अनूपगढ़ तथा विजयनगर तहसील के 73 किसानों की फसलों में 33 प्रतिशत से अधिक खराबा होने की रिपोर्ट प्राप्त हुई थी। 1/2
- Ashok Gehlot (@gehlotashok) 17 Jan 2022

Edited By: Sachin Kumar Mishra