जयपुर, जागरण संवाद केन्द्र। राजस्थान में भाजपा विधायक नरपत सिंह राजवी के आधार कार्ड की फोटो प्रति से मोबाइल सिम जारी कराने का मामला सामने आया है। आरोपी काफी समय से विधायक के नाम से जारी सिम का उपयोग कर रहा था। विधायक राजवी के अनुसार उनके नाम से किसी अज्ञात व्यक्ति को मोबाइल सिम जारी होने की बात सामने आई थी। इस व्यक्ति ने विधायक के आधार कार्ड की फोटो प्रति कहीं से हासिल कर ली और उसके आधार पर सिम कार्ड जारी करा कर एक वर्ष तक उपयोग करता रहा।

मेरा आधार मेरा खाता अभियान का दूसरा चरण कल से

 विधायक को जानकारी दो दिन पूर्व लगी जब मोबाइल कम्पनी से किसी ऑफर की जानकारी देने के लिए टेलिफोन आया। इस पर विधायक ने जोधपुर के रातानाड़ा पुलिस थाने में अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है। यह सिम रातानाड़ा पुलिस थाना क्षेत्र से ही खरीदी गई थी। पुलिस की प्रारम्भिक जांच में सामने आया कि बाडमेर जिले के धोरीमन्ना निवासी मांगीलाल पुत्र सूरजाराम के नाम से यह सिम जारी हुई है। पुलिस ने मांगीलाल को हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू की है।

सूची से हटाए जाएंगे मृत मतदाताओं के नाम

 राजवी ने निदेशक यूआईडीए को पत्र लिखकर आधार कार्ड जैसे दस्तावेज के दुरूपयोग की जानकारी दी। उन्होंने एक पत्र केन्द्रीय परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गड़करी को भी लिखा है,जिसमें कहा गया है कि टोल प्लाजा पर विधायक के पहचान पत्र को स्केन किया जाता है, कोई भी इसकी फोटो काफी लेकर इसका दुरूपयोग कर सकता है। इसको लेकर कोई योजना बनाई जानी चाहिए।

जिले में मेरा आधार मेरा खाता अभियान आठ से

जन्म लेने के छठें मिनट में बना आधार, नाम मिला 'पांडे जी'

Posted By: Bhupendra Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस