अजमेर, जेएनएन । भाजपा नेता, पूर्व शिक्षा मंत्री एवं अजमेर उत्तर विधायक वासुदेव देवनानी ने कहा है कि बसंत पंचमी पर होनहार बेटियों को गार्गी व प्रोत्साहन पुरस्कार देने की दिशा में राज्य सरकार की अभी तक कोई तैयारी नहीं है। देवनानी ने कहा कि प्रदेश में 10वीं व 12वीं की होनहार बालिकाओं को बढ़ावा देने के लिए वर्ष 1998 में प्रदेश में क्रमशः गार्गी पुरस्कार एवं 2008 में प्रोत्साहन पुरस्कार योजना की शुरूआत की थी जिसके स्वरूप बोर्ड परीक्षाओं में 75 प्रतिशत से अधिक अंक प्राप्त करने वाले 10वीं की बालिका को दो किस्तों में 6 हजार व 12वीं की बालिकाओं को एक किस्त में 5 हजार के साथ प्रमाण पत्र दिया जाना तय हुआ।

मालूम हो कि तब से हर साल ये दोनों पुरस्कार बसंत पंचमी पर दिए जाते रहे हैं , लेकिन इस बार पुरस्कार को लेकर कांग्रेस की अशोक गहलोत सरकार गहरी नींद में है। उसकी ओर से इस दिशा में कोई रूची नहीं दिखाई जा रही है। बसंत पंचमी के महज पन्द्रह दिन हैं लेकिन सरकार ने अब तक गार्गी एवं प्रोत्साहन पुरस्कार के लिए न बजट दिया है और न पुरस्कार वितरण की कोई तैयारी शुरू की है, जबकि हर साल बसंत पंचमी के तीन माह पहले बजट देने के साथ वितरण की तैयारी प्रारंभ हो जाती थी। भाजपा नेता एवं अजमेर उत्तर विधायक वासुदेव देवनानी ने कहा है कि बसंत पंचमी पर होनहार बेटियों को गार्गी व प्रोत्साहन पुरस्कार देने की दिशा में राज्य सरकार की अभी तक कोई तैयारी नहीं है।

देवनानी ने कहा कि वर्ष 2021 में कक्षा 12वीं व 10वीं में करीब सात लाख बालिकाओं ने 75 प्रतिशत से अधिक अंक प्राप्त किए हैं। ये बालिकाएं गार्गी एवं प्रोत्साहन पुरस्कार को लेकर काफी उत्सुक हैं लेकिन सरकार की ओर से अब तक कोई हलचल नहीं दिखने के चलते इन बालिकाओं को निराशा ही हो रही है। पन्द्रह दिन शेष रहने के चलते सरकार की मंशा में भी खोट दिखाई पड़ रहा है। 

Edited By: Priti Jha