जागरण संवाददाता, जयपुर। Police inspector suicide case. राजस्थान में चूरू जिले के राजगढ़ पुलिस थानाधिकारी विष्णुदत्त विश्नोई खुदकशी मामले की सीबीआइ जांच की मांग ने जोर पकड़ लिया है। सांसद हनुमान बेनीवाल, भाजपा विधायक दल के उपनेता राजेंद्र राठौड़ व पूर्व सांसद राम¨सह कस्वा सहित कई नेताओं ने केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह को इसको लेकर पत्र लिखा है। उधर, बसपा नेता मनोज न्यांगली ने सीबीआइ जांच की मांग के चलते आंदोलन शुरू करने को लेकर अपने समर्थकों के साथ बैठक की।

राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के अध्यक्ष व सांसद हनुमान बेनीवाल का कहना है कि सीबी सीआइडी निष्पक्ष जांच नहीं कर सकती है  इस वजह से इस प्रकरण की जांच सीबीआइ से कराई जानी चाहिए । उन्होंने केंद्रीय गृहमंत्री को पत्र लिखकर कहा है कि जांच सीबीआइ में स्थानांतरित करने का विषय राज्य सरकार का है, लेकिन फिर भी आप हस्तक्षेप करके मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को निर्देशित करें, ताकि कर्तव्यनिष्ठ अधिकारी के आत्महत्या के विषय में सही जांच हो सके। बेनीवाल ने मामले की जांच सीबीआइ से करवाने की मांग को लेकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को भी पत्र लिखा है।

उल्लेखनीय है कि विष्णुदत्त विश्नोई द्वारा खुदकशी किए जाने के बाद राजगढ़ पुलिस थाने का पूरा स्टाफ पुलिस महानिरीक्षक जोस मोहन को सामूहिक रूप से पत्र लिखकर अयंत्र तबादले की मांग भी कर चुका है। विश्नोई के भाई संदीप ने राजगढ़ पुलिस थाने में धारा 306 के तहत मामला दर्ज करवाया है। विश्नोई ने अपने क्वार्टर खुदकशी करने से पहले दो सुसाइड नोट लिखे थे, जिनमें से एक में खुद पर दबाव होने की बात कही थी।

इसी बीच, मामले की जांच कर रही सीबी सीआइडी, की टीम ने बुधवार को लगातार दूसरे दिन राजगढ़ व चूरू में कई जानकारियां जुटाई। मन की बात जानने की पुलिस अधीक्षक ने की पहल इंस्पेक्टर विष्णुदत्त विश्नोई द्वारा खुदकशी करने के बाद चूरू पुलिस अधीक्षक तेजस्वनी गौतम ने पुलिसकर्मियों के मन की बात जानने को लेकर अभियान चलाने का निर्णय लिया है । पुलिस अधीक्षक पुलिसकर्मियों के मन की बात जानने के लिए थाना स्तर पर काउंसलिंग करेंगी।

 

Posted By: Sachin Kumar Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस