जागरण संवाददाता, जयपुर। Coronavirus. राजस्थान के कोटा में मेडिकल कॉलेज अस्पताल के स्टाफ की लापरवाही के चलते कोरोना संदिग्ध एक व्यक्ति की मौत हो गई। लालचंद की मौत से संबंधित वीडियो सोशल मीडिया पर शुक्रवार को वायरल हुआ तो पूरे मामले का पर्दाफाश हो गया। अस्पताल प्रबंधन के खिलाफ केस दर्ज कराया गया है।

अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती लालचंद की 23 मई की रात को तड़प-तड़पकर मौत हो गई, लेकिन ड्यूटी पर तैनात स्टाफ को पता तक नहीं चला। शर्मनाक बात तो यह रही कि सामने के बेड पर भर्ती मरीज स्टाफ को सूचना देने के बजाय वीडियो बनाता रहा। अगर वह समय पर स्टाफ को सूचित कर देता तो उसकी जान बच सकती थी। अब यह वीडियो सामने आया है, जिसके आधार पर लालचंद के भाई सुरेश ने अस्पताल प्रबंधन के खिलाफ महावीर नगर पुलिस थाने में शिकायत दर्ज कराई है। इस मामले में अस्पताल अधीक्षक चंद्रशेखर का कहना है कि लालचंद को टीबी की बीमारी थी। मिर्गी के दौरे भी आते थे । बेड से कैसे गिरा इस बारे में नर्सिग स्टाफ से स्पष्टीकरण मांगा गया है ।

डॉक्टर के खिलाफ मामला दर्ज

प्रदेश में झालावाड़ जिले के झालरापाटन में एक प्राइवेट क्लीनिक के डॉक्टर के खिलाफ कुछ लोगों ने कोरोना संक्रमण फैलाने के आरोप में मामला पुलिस में दर्ज कराया है। पुलिस अधीक्षक राममूíत जोशी ने बताया कि पिछले दिनों झालरापाटन में कोरोना पॉजिटिव आए मरीजों की हिस्ट्री निकाली तो पता चला कि ज्यादातर मरीजों ने उक्त डॉक्टर के क्लीनिक पर इलाज कराया था। बाद में जांच करने पर क्लीनिक का डॉक्टर भी संकंमित पाया गया।

सिरोही में मरीजों के लिए म्यूजिक सिस्टम

उधर, सिरोही के सरकारी कॉलेज में बने कोविड केयर सेंटर में मरीजों के मनोरंजन के लिए म्यूजिक सिस्टम लगाया गया है। यहां कई मरीजों के डांस करने की तस्वीरें सामने आई हैं। सेंटर के प्रभारी डॉ. दर्शन ग्रोवर का कहना है कि यहां भर्ती अधिकांश मरीज नौ दिन में ठीक हो रहे हैं। मरीजों का मनोरंजन होता रहे इसके लिए इन्हें दो समय आरती के साथ ही भजन और पुराने गाने सुनाते हैं। कुछ लोग डांस भी करते हैं ।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस