जयपुर, नरेन्द्र शर्मा। राजस्थान विधानसभा चुनाव में भाजपा के हाईटेक चुनाव प्रचार अभियान का मुकाबला करने के लिए कांग्रेस ने प्रदेश के 800 नेताओं को जिम्मेदारी सौंपी है। इन 800 नेताओं को सोमवार को जयपुर में ट्रेनिंग दी गई ।

इन नेताओं को बताया गया है कि सोशल मीडिया,माउथ पब्लिसिटी के माध्यम के साथ ही लोगों के बीच जाकर किसी तरह से भाजपा,आरएसएस,केन्द्र की मोदी सरकार और राजस्थान की वसुंधरा सरकार के खिलाफ माहौल बनाना है ।

आम लोगों को केन्द्र और राज्य सरकार की विफलताएं बताने के साथ ही तत्कालीन कांग्रेस सरकार के समय में प्रारम्भ की गई योजनाओं के बारे में भी जानकारी देने का काम इन नेताओं को सौंपा गया है । जयपुर में आयोजित एक दिवसीय ट्रेनिंग प्रोग्राम में कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव और पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत,अविनाश पांडे,प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट,चुनाव स्क्रीनिंग कमेटी की चेयरमैन कुमारी शैलता एवं पूर्व केन्द्रीय मंत्री जितेन्द्र सिंह ने 800 नेताओं को चुनाव प्रचार से लेकर मतदान सम्पन्न होने तक काम करने का "मंत्र " दिया ।

इस दौरान पांडे और जितेन्द्र सिंह ने कहा,अब नेताओं की सिफारिश पर किसी को भी टिकट देने का दौर गया । अब मजबूत जनाधार वाले नेता को ही प्रक्रिया से टिकट मिलेगा,उम्मीदवार चयन के लिए सर्वे चल रहा है । सर्वे के माध्यम से संभावित उम्मीदवारों के जनाधार का पता लगाया जा रहा है । दोनों नेताओं ने कहा,टिकट के लिए अब सिफारिश नहीं चलेगी,कार्यकर्ताओं और मतदाओं की राय को प्राथमिकता मिलेगी ।

सोशल मीडिया के उपयोग पर जोर,अनुशासन तोड़ने वालों पर कार्रवाई की हिदायत

ट्रेनिंग के दौरान कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव अविनाश पांडे,स्क्रीनिंग कमेटी की चेयरमैन कुमारी शैलजा और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट ने कहा कि इस बार चुनाव में सोशल मीडिया की महत्वपूर्ण भूमिका होगी । पिछले चुनाव में हम हमारी उपलब्धियों का सोशल मीडिया के माध्यम से सही प्रचार नहीं कर सके।

भाजपा ने हमारी इसी कमजोरी का लाभ उठाया। तीनों नेताओं ने कहा कि पोलिंग बूथ कमेटियों को मजबूत करना होगा। पोलिंग बूथ कमेटियों में शामिल कार्यकर्ताओं को अपने-अपने क्षेत्र के मतदाताओं के निरंतर सम्पर्क में रहना होगा। इस मौके पर पायलट ने कहा कि,इस गलतफहमी में किसी को नहीं रहना चाहिए कि किसी एक व्यक्ति ने पार्टी का कायाकल्प किया है।

भाजपा को हराने के लिए सभी को मिलकर काम करना होगा।उन्होंने कहा कि कांग्रेस में कोई गुटबाजी नहीं है,अति उत्साह में कहीं कोई नारेबाजी हो जाती है तो वह गलत नहीं है,लेकिन अनुशासन तोड़ने वालों के खिलाफ कार्रवाई होगी ।

गहलोत बोले,मैने गुजरात से बहुंत कुछ सीखा,चुनाव को बताया धर्मयुद्ध

ट्रेनिंग के दौरान अशोक गहलोत ने टिकट मांगने वाले नेताओं को सीख देते हुए कहा,गुजरात के प्रभारी रहते हुए मैने बहुंत कुछ सीखा है। गुजरात में टिकट के दावेदार से जीतने वाले दूसरे दावेदार के बारे में पूछते थे,तो वह दूसरे योग्य दावेदार का नाम भी बताता था,लेकिन राजस्थान में तो दावेदार कहता है कि मेरे अलावा कोई चुनाव जीत ही नहीं सकता है।

आगामी विधानसभा चुनाव को धर्मयुद्ध बताते हुए गहलोत ने कहा कि जीतने वाले योग्य प्रत्याशी को ही टिकट दिया जाएगा। सचिन पायलट को नसीहत देते हुए गहलोत ने कहा,प्रदेश में जो भी पीसीसी अध्यक्ष बनता है चार-पांच चमचे उसे मुख्यमंत्री बनने का सपना दिखाने लग जाते है,मेरे साथ भी ऐसा हुआ था,लेकिन मै इनके झांसे में नहीं आया,आप भी इनका ध्यान रखना।

गहलोत की नसीहत का जवाब देते हुए पायलट ने कहा कि कई लोग अपने नंबर बढ़ाने के चक्कर में इधर-उधर करते है । मेरे इर्द-गिर्द चार-पांच ऐसे लोग थे,उन्हे मैने दूर कर दिया है।

इन्हे दी गई ट्रेनिंग

प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता अर्चना शर्मा ने बताया कि सोमवार को हुए ट्रेनिंग कार्यक्रम में विधायक,पूर्व विधायक,पूर्व सांसद,जिला प्रमुख,प्रदेश कांग्रेस पदाधिकारी,जिला कांग्रेस कमेटियों के पदाधिकारी,ब्लाॅक कांग्रेस कमेटियों के अध्यक्ष,अग्रिम संगठनों के प्रदेश और जिला अध्यक्ष एवं आईटी सेल के पदाधिकारी शामिल हुए। इनकी संख्या करीब 800 है ।  

Posted By: Preeti jha