जयपुर, जागरण संवाददाता। राजस्थान की रामगढ़ विधानसभा सीट पर 27 जनवरी को होने वाले चुनाव के बाद विधानसभा की तस्वीर पूरी हो जाएगी। पिछले माह में बसपा उम्मीदवार की मृत्यु के बाद इस सीट पर चुनाव स्थगित कर दिया गया था। रामगढ़ सीट सत्तारूढ़ दल कांग्रेस और मुख्य विपक्षी दल भाजपा सहित बसपा के लिए भी काफी महत्वपूर्ण है। यहां यदि कांग्रेस जीतती है तो वह 200 सदस्यीय विधानसभा में 100 विधायकों के आंकड़े पर पहुंच जाएगी।

वर्तमान में कांग्रेस के 99 विधायक है। भाजपा के लिए यह सीट इसलिए अहम है, क्योंकि पिछले एक साल में इस क्षेत्र में गाय को लेकर चली राजनीति से वोटों के ध्रुवीकरण की अधिकतम संभावनाएं है। हालांकि भाजपा और कांग्रेस का खेल पूर्व विदेश मंत्री नटवर सिंह के पुत्र जगत सिंह बिगाड़ने की कोशिश कर रहे है जगत सिंह इस सीट से बसपा के टिकट पर मैदान में है। एक मात्र मेव विधायक जाहिदा खान को मंत्री नहीं बनाए जाने से कांग्रेस का परम्परागत वोट बैंक मेव समाज नाराज है । वहीं दलित समाज फिलहाल बसपा के पक्ष में नजर आ रहा है ।

टिकट नहीं मिलने पर भाजपा छोड़ बसपा का दामन थामा

पिछली विधानसभा में भाजपा विधायक रहे जगत सिंह को इस बार पार्टी ने टिकट नहीं दिया। इस पर वे अब रामगढ़ सीट से बसपा के टिकट पर चुनाव लड़ रहे है। बसपा का विधानसभा चुनाव में अलवर और भरतपुर में काफी अच्छा प्रदर्शन रहा है पांच विधायक इस क्षेत्र से जीतकर आए है। इन दोनों जिलों में बसपा का वोट शेयर भी बढ़ा है। विधानसभा में जहां कांग्रेस को पूर्ण बहुमत नहीं है, वहीं भाजपा 73 सीटें जीतने के साथ ही मजबूत विपक्ष की भूमिका में अभी से नजर आने लगी है। कांग्रेस की वर्तमान में 99 सीटें है,एक सीट पर रालोद के टिकट पर जीते विधायक का समर्थन है। इस तरह से 200 सदस्यीय विधानसभा में 100 के आंकड़े तक पहुंचकर सरकार बनाई थी । कांग्रेस ने रालोद से चुनाव पूर्व समझौता किया था ।

इस सीट का इतिहास रहा है कि एक बार कांग्रेस और एक बार भाजपा की जीत हुई है। पिछले एक साल में मॉब लिंचिंग और गोतस्करी की अधिकांश घटनाएं इसी क्षेत्र में हुई है। मेव और दलित बहुल इस क्षेत्र में कांग्रेस और भाजपा के बीच हमेशा कांटे का मुकाबला रहा है। रामगढ़ में पिछले एक साल में गौरक्षा के नाम पर राजनीति होती रही है । पिछले साल जुलाई में यहां गाय ले जा रहे रकबर खान को पीट पीटकर मार डाला गया था। भाजपा प्रत्याशी सुखदेव सिंह का कहना है कि गाय हमारे लिए पूज्य है, हमारे लिए हिंदुत्व महत्वपूर्ण है। मायावती यहां 24 जनवरी को रैली करेंगी और कांग्रेस ने आधा दर्जन मंत्रियों को चुनाव अभियान के लिए तैनात किया है।  

Posted By: Preeti jha

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप