जयपुर, जागरण संवाददाता। राजस्थान की कांग्रेस सरकार के खिलाफ भाजपा ने गुरुवार से 'हल्ला बोल' आंदोलन शुरू किया है। भाजपा कार्यकर्ता शहरों, कस्बों व गांवों में जाकर सरकार के खिलाफ धरने-प्रदर्शन करेंगे। राज्य स्तर के 77 वरिष्ठ नेताओं ने सरकार के खिलाफ आंदोलन की अगुवाई की। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया ने जोधपुर जिले के ओंसिया में धरने-प्रदर्शन का नेतृत्व किया। पूनिया ने कहा कि पिछले दिनों में जिस तरह से सरकारी भर्तियों में नकल हो रही है, वह गलत है। बेरोजगार युवाओं के साथ खिलवाड़ हो रहा है। पूनिया ने कहा कि 15 दिसंबर को जयपुर में राज्य स्तरीय रैली आयोजित की जाएगी। रैली में दो लाख लोगों की भीड़ जुटाने का लक्ष्य रखा गया है। उन्होंने कहा कि कोरोना मुख्यमंत्री अशोक गहलेत के लिए आपदा में अवसर बन गया है। कोरोना के दौरान दवाइयों व अन्य उपकरणों की खरीद में काफी भ्रष्टाचार हुआ है। किसानों से कर्जमाफी का वादा किया गया, लेकिन सरकार करीब तीन साल का कार्यकाल पूरा कर चुकी, लेकिन यह वादा पूरा नहीं किया गया है। जयपुर में आयोजित प्रदर्शन का नेतृत्व पूर्व मंत्री अरुण चतुर्वेदी ने किया। उधर, कांग्रेस ने भी नवंबर में केंद्र सरकार के खिलाफ जन जागरण अभियान चलाने की घोषणा की है। 

बिजली दरों में बढ़ोतरी को लेकर भाजपा का प्रदर्शन

उदयपुर संवाद सूत्र के मुताबिक, भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं ने गुरुवार को उदयपुर में जिला कलक्ट्रेट के सामने प्रदर्शन किया। जिसमें बिजली दरों में बढ़ोतरी को लेकर जमकर राज्य सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। जिसके प्रति उत्तर में राज्य के परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने कहा कि भाजपा वाले महंगाई के साथ डीजल-पेट्रोल की कीमतों में वृद्धि को लेकर भी प्रदर्शन कर लेती। उदयपुर में भाजपा नगर मंडल ने बिजली दरों में बढ़ोतरी और जन विरोधी नीतियों के खिलाफ गुरुवार को हल्ला बोल प्रदर्शन किया। बिजली दर और अपराध के बढ़ते ग्राफ के विरोध में उदयपुर शहर भाजपा अध्यक्ष रवीन्द्र श्रीमाली के नेतृत्व में कांग्रेस के खिलाफ नारेबाजी की गई।  श्रीमाली ने प्रदर्शन के दौरान कहा कि प्रदेश में महिलाओं के साथ-साथ छोटे-छोटे बच्चों के साथ भी दुष्कर्म के मामले हो रहे हैं। बिजली की समस्या बढ़ गई हैं। दिन में चार घंटे बिजली बंद रहती है। शाम को भी खाना बनाने के समय भी 5 घंटा बिजली बंद रहती है। इससे महिलाओं को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

थानों में मंदिर बंद करने का विरोध

श्रीमाली ने कहा कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने थाने में बने मंदिरों को बंद करने को कहा हैं। भारत सभी धर्मों को मानने वाला है। धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने का गहलोत सरकार को कोई अधिकार नहीं है। आक्या ने कहा कि सरकार को इसका खामियाजा भुगतना पड़ेगा। उन्होंने कहा कि राजस्थान में केवल भाजपा सरकार ही बनेगी। उसके बाद हर थाने में मंदिर जरूर बनेगा। स्कूलों में भी मंदिर बनेगा। प्रदर्शन के बाद अतिरिक्त जिला कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा गया।

प्रताप सिंह खाचरियावास ने दिया जबाव

राजस्थान के परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने भाजपा के प्रदर्शन को लेकर कहा कि भाजपा महंगाई के साथ डीजल और पेट्रोल की कीमतों में वृद्धि के खिलाफ भी प्रदर्शन करती। ऐसा वह नहीं कर सकते। इनके नेता पहले जो बात करते थे, उन पर खुद गौर नहीं करते। उन्होंने कहा कि उन्हें अपनी कही बात पर शर्म नहीं आती।

Edited By: Sachin Kumar Mishra