जयपुर [नईदुनिया]। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि कार्यकर्ता ने तय कर लिया तो हमारी जीत निश्चित है। राजस्थान में भाजपा अंगद के पैर की तरह है और यहां इसे कोई उखाड़ नहीं सकता है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि दिसंबर में तीन राज्यों में जीत को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी मुंगेरीलाल के सपने देख रहे हैं, क्योंकि कांग्रेस के पास तो न नीति है और नेता, जबकि भाजपा के पास नरेंद्र मोदी जैसा नेता है। और हर बूथ पर मजबूत कार्यकर्ता है। 


उन्होंने कहा कि हर चुनाव में कोई मुद्दा आ जाता है। इन राज्यों के चुनाव में भी आएगा, लेकिन अखलाक आया तो भी हम जीते, अवार्ड वापसी के दौर में भी हम जीते और इस बार भी हम जीतेंगे। राजस्थान में चुनावी दौरों के तहत मंगलवार को जयपुर आए शाह ने यहां भाजपा के शक्ति केंद्रों के कार्यकर्ताओं के सम्मेलन में यह बात कही।

शाह ने कार्यकर्ताओं को जीत का मंत्र देते हुए कहा कि आने वाले चुनाव में हमें दाएं-बाएं कुछ नहीं देखना है। सिर्फ भारत माता की मूर्ति देखनी है और यह सोचना है कि यह न किसी मंत्री का चुनाव है न मुख्यमंत्री का चुनाव। यह भाजपा का चुनाव है और हमें हमारी पार्टी को राजस्थान में विजय नहीं, प्रचंड विजय दिलानी है।

उन्होंने कहा कि साल के अंत में होने वाला चुनाव 2019 में होने वाले चुनाव को सीधे तौर पर प्रभावित करेगा और हमें नरेंद्र मोदी को एक बार फिर प्रधानमंत्री बनाना है। हम 2019 का चुनाव जीत गए तो अगले 50 साल तक पंचायत से लेकर संसद तक भाजपा ही होगी।

एक-एक बांग्लादेशी को बाहर भेजेंगे
शाह ने कहा कि हमने असम में एनआरसी को लागू किया और बांग्लादेशी घुसपैठियों को वापस भेजने की बात की तो कांग्रेस को बहुत तकलीफ हुई, क्योंकि कांग्रेस सिर्फ वोट बैंक की चिंता करती है। कांग्रेस ने कहा कि बांग्लादेशियों को भेजोगे तो पाकिस्तान से आए हिंदुओं को भी भेजना पड़ेगा। शाह ने कहा कि कांग्रेस कितनी भी आलोचना कर ले, हम एक-एक बांग्लादेशी को वापस भेजेंगे और जहां तक पाकिस्तान, अफगानिस्तान और नेपाल से आए हिंदुओं की बात है तो वह घुसपैठिए नहीं, शरणार्थी हैं और हम उनके लिए कानून लाए हैं।

मनमोहन जाते थे तो पता ही नहीं चलता था
शाह ने कहा कि कांग्रेस कहती है कि मोदी विदेश ही घूमते रहते हैं, लेकिन हमने रिकॉर्ड देखा तो पता चला कि मनमोहन सिंह मोदी से ज्यादा विदेश गए थे। हालांकि, वह विदेश जाते थे तो किसी को पता ही नहीं चलता था। मोदी विदेश जाते हैं तो हजारों लोग उनका स्वागत करते हैं।


वसुंधरा की गैर मौजूदगी में हुआ दौरा
शाह का यह दौरा मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे की गैर मौजूदगी में हुआ। राजे राजस्थान गौरव यात्रा के तीसरे चरण के तहत बीकानेर में थीं और वहीं से दिल्ली चली गई। बताया जाता है कि दिल्ली में उनका कोई निजी कार्यक्रम है। शाह ने राजे की गैर मौजूदगी में ही शक्ति केंद्र प्रतिनिधियों, नगरीय निकायों के जनप्रतिनिधियों, सहकारी संस्थाओं के प्रतिनिधियों और प्रबुद्घजनों के सम्मेलन को संबोधित किया।

गणेश की पूजा से की चुनावी दौरों की शुरुआत
शाह ने राजस्थान में अपने चुनावी दौरों की शुरुआत जयपुर में मोती डूंगरी गणेश मंदिर में दर्शन से की। यहां उन्होंने विशेषष पूजा-अर्चना की। इस दौरान शाह को मोती डूंगरी मंदिर में प्रसाद के रूप में 51 किलो का मोदक मिला।

कार्यकर्ताओं को दिए ये मंत्र
-हर कार्यकर्ता पांच-पांच गांव में जाए। लोगों को सर्जिकल स्ट्राइक से लेकर उज्ज्वला योजना और भामाशाह योजना तक की जानकरी देकर वोट मांगे।
- कार्यकर्ता ने तय कर लिया तो हमारी जीत निश्चित है। राजस्थान में भाजपा अंगद के पैर की तरह है और यहां इसे कोई उखाड़ नहीं सकता।
- कांग्रेस तो यहां नेता तक तय नहीं कर पा रही है, जो पार्टी नेता ही तय नहीं कर पा रही है, उसे चुनाव लड़ने का अधिकार नहीं है। यह बात आम जनता तक पहुंचाएं।

 

Posted By: Nancy Bajpai