जयपुर , जागरण संवाददाता । राजस्थान के बहुचर्चित दारा सिंह एनकाउंटर मामले में जयपुर के अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश क्रम संख्या-14 ने फैसला सुना दिया है । जज रमेश जोशी ने मंगलवार को फैसला सुनाते हुए सभी आरोपितों को बरी कर दिया ।

दरअसल, पुलिस ने 23 अक्टूबर,2006 को एनकाउंटर में दारा सिंह मार गिराया था । उसकी पत्नी सुशीला देवी ने एनकाउंटर को फर्जी बताते हुए सुप्रीम कोर्ट तक लड़ाई लड़ी । सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर सीबीआई ने जांच के बाद 17 आरोपितों के खिलाफ चार्जशीट पेश की । इसमें वसुंधरा राजे सरकार के तत्कालीन केबिनेट मंत्री राजेन्द्र राठौड़ एवं अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक ए.के.जैन,ए.पोनूच्चामी सहित 17 लोगों को सीबीआई ने आरोपित बनाया । सीबीआई ने जांच के बाद अदालत में चार्जशीट पेश कर दी । इस मामले में राजेन्द्र राठौड़,ए.के.जैन और पोनूच्चामी सहित 14 पुलिसकर्मी गिरफ्तार हुए ।

सीबीआई का कहना था कि राजेन्द्र राठौड़ के कहने पर पुलिस अधिकारियों ने दारासिंह को फर्जी मुठभेड़ में मारा था । अप्रैल,2016 को राजेन्द्र राठौड़,ए.के.जैन और पोनूच्चामी को गिरफ्तार कर लिया गया । राठौड़ 51 दिन तक जेल में बंद रहने के बाद कोर्ट से आरोप मुक्त हुए । जैन को भी कोर्ट ने आरोप मुक्त कर दिया । पोनूच्चामी कुछ माह पूर्व ही जमानत पर रिहा हुए हैं ।

प्रकरण में अभियान पक्ष ने 194 गवाह,705 दस्तावेज साक्ष्य पेश किए । वहीं बचाव पक्ष ने 463 दस्तावेजी साक्ष्य पेश करते हुए अपनी तरफ से कोई भी गवाह पेश नहीं किया । सुनवाई के दौरान ही एक आरोपित की मौत हो गई । इसके बाद 14 आरोपितों का मामला कोर्ट में विचाराधीन,जिस पर निर्णय देते हुए कोर्ट ने आज सभी को बरी कर दिया ।

By Preeti jha