जयपुर, जागरण संवाददाता। Coronavirus: राजस्थान में कोरोना संक्रमण लगातार बढ़ता जा रहा है। प्रदेश में शुक्रवार को 1147 पॉजिटिव केस मिलने के साथ ही 13 लोगों की मौत हो गई। प्रदेश में अब तक 42083 पॉजिटिव केस मिलने के साथ ही 680 की मौत हुई है। एक्टिव मरीजों की संख्या 11,558 है। प्रदेश के चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने कहा कि कोरोना के गंभीर मरीजों के इलाज के लिए टोसिलिजुमैब और रेमडेसिवीर इंजेक्शन को प्रदेश के मेडिकल कॉलेजों में उपलब्ध कराने के निर्देश दिए। ये इंजेक्शन सवाई मानसिंह अस्पताल के वरिष्ठ विशेषज्ञों द्वारा तैयार किए गए हैं।

डॉ. शर्मा ने कहा कि कोविड-19 के मैनेजमेंट में सबसे महत्वपूर्ण कोराना के कारण होनी वाली जनहानि को रोकना है। उन्होंने कहा कि इसी कड़ी में जयपुर, जोधपुर, बीकानेर, कोटा, अजमेर, और उदयपुर की मेडिकल कॉलेजों में मेंटोसिलिजुमैब और रेमडेसिवीर इंजेक्शन उपलब्ध कराने की व्यवस्था की है। उन्होंने कहा कि भविष्य में आवश्यकता के अनुसार मांग की पूर्ति राजस्थान मेडिकल सर्विस कॉर्पोरेशन लिमिटेड़ द्वारा की जाती रहेगी। इस इंजेक्शन का परिणाम सौ फीसदी रहा है। इसकी कीमत करीब 40 हजार रुपये है। राज्य सरकार ने महंगा होने के बावजूद इसे सभी मेडिकल कॉलेजों में उपलब्ध कराने की व्यवस्था की है।

कोरोना पॉजिटिव ने अस्पताल से भागने का किया प्रयास, चौथी मंजिल से गिरा

उदयपुर संवाद सूत्र के मुताबिक, यहां उमरड़ा स्थित पैसिफिक मेडिकल कॉलेज के अस्पताल से गुरुवार

देर रात एक कोरोना संक्रमित कैदी ने भागने का प्रयास किया। जिसके चलते वह चौथी मंजिल से नीचे गिर गया। गनीमत रही कि उसे ज्यादा चोट नहीं आई। जिसके बाद पुलिस ने उसे शुक्रवार सुबह चित्रकूटनगर स्थित ईएसआई अस्पताल में भर्ती कराया है। पुलिस सूत्रों ने बताया कि वाहन चोरी के मामले में प्रतापनगर थाना पुलिस जोधपुर से सुनील विश्नोई को गिरफ्तार कर गुरुवार को ही उदयपुर लाई थी। यहां लाए जाने के बाद उसकी कोरोना संक्रमण को लेकर जांच कराई। संक्रमित पाए जाने पर उसे उमरड़ा स्थित पैसिफिक मेडिकल कॉलेज के अस्पताल में भर्ती कराया था। जहां उसे अस्पताल की छठवीं मंजिल के कमरे में रखा गया तथा बाहर

पुलिसकर्मी तैनात किया था।

गुरुवार देर रात कैदी बाथरूम की खिड़की से निकला तथा पाइप के सहारे नीचे उतरने लगा। इसी दौरान आहट होने पर वहां तैनात पुलिसकर्मी ने उसकी खोज की तो वह पाइप के सहारे लटका हुआ था। इसी दौरान जल्दबाजी में उतरने के प्रयास के चलते कैदी चार मंजिल से सीधे नीचे जा गिरा। जिसमें उसके हाथ तथा पांव में चोट आई है। पैसिफिक मेडिकल कॉलेज में पहले से तैनात पुलिसकर्मियों ने उसे घेर लिया तथा उसे वापस दूसरे कमरे में भर्ती कराया। जिसके बाद शुक्रवार सुबह उसे चित्रकूटनगर स्थित ईएसआई अस्पताल में शिफ्ट कर दिया गया।इधर, पुलिस उपाधीक्षक राजीव जोशी ने बताया कि कैदी के खिलाफ सुखेर थाने में हिरासत के दौरान भागने का

प्रयास करने का मामला शुक्रवार को दर्ज कराया गया है। चौथी मंजिल से गिरने से उसे गहरी चोट लगी है, लेकिन उसकी जान बच गई।

Posted By: Sachin Kumar Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस