जयपुर, प्रेट्र। Rajasthan: राजस्थान में सीकर जिले के एक गांव में संक्रमित व्यक्ति को कोरोना की गाइडलाइन के बिना दफन किए जाने के बाद करीब 21 लोगों की मौत हो गई। हालांकि, प्रशासन का कहना है कि 15 अप्रैल से पांच मई के बीच केवल चार लोगों की ही मौत कोरोना संक्रमण से हुई है, शेष की मौत की वजह कुछ और है। अधिकारियों ने बताया कि गत 21 अप्रैल को सीकर जिले के खीरवा गांव में कोरोना संक्रमित व्यक्ति का शव लाया गया था। उसको दफनाने के दौरान करीब 150 लोग जुटे थे। इस दौरान कोरोना की गाइडलाइन का पालन नहीं किया गया। इस दौरान शव को प्लास्टिक के थैले से बाहर भी निकाला गया। इस दौरान कई लोगों ने शव को छुआ भी।

लक्ष्मणगढ़ के उप-विभागीय अधिकारी कुलराज मीणा ने कहा कि जिन 21 लोगों की मौत की बात कही जा रही है, उसमें से केवल तीन से चार लोगों की ही मौत कोरोना के कारण हुई है। अन्य लोगों की मौत की वजह वृद्धावस्था सहित अन्य हैं। हालांकि, 147 परिवारों के सदस्यों की जांच लिए नमूने लिए गए हैं। इसके साथ ही प्रशासन ने गांव में सैनिटाइजेशन अभियान चलाया है। लोगों को समस्या की गंभीरता के बारे में बताया जा रहा है। इतना ही नहीं, लोग सहयोग भी कर रहे हैं।

कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष ने साझा की थी जानकारी

राजस्थान में कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा के विधानसभा क्षेत्र में खीरवा गांव पड़ता है। बताया जाता है कि उन्होंने कोरोना संक्रमित व्यक्ति के दफानाने के बाद लोगों की मौत होने की जानकारी इंटरनेट मीडिया पर साझा की थी, लेकिन बाद में पोस्ट को हटा लिया था। गौरतलब है कि प्रदेश के कई जिलों में कोरोना संक्रमण के के नित नए मामले सामने आ रहे हैं।

स्थानीय अधिकारियों से इस मामले में रिपोर्ट मांगी गई है। इसके बाद ही इस मामले पर टिप्पणी कर पाऊंगा।

-अजय चौधरी, मुख्य चिकित्सा व स्वास्थ्य अधिकारी, सीकर।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप