जागरण संवाददाता, तरनतारन: रेलवे रोड पट्टी में फोटो स्टेट की आड़ में फर्जी लाइसेंस व वाहनों की आरसी बनाने वाले तीन सदस्यीय गिरोह का पर्दाफाश किया गया है। पुलिस ने डीटीओ, प्रिंसिपलों, एग्जिक्यूटिव मजिस्ट्रेट, नोटरी और डाक्टरों की जाली मोहरें भी बरामद कीं। इस मामले में सीआइए स्टाफ-2 की पुलिस ने आरोपितों को अदालत में पेश करके एक दिन का रिमांड ले लिया है।

एसएसपी ध्रुमन एच निंबाले ने बताया कि डीएसपी पट्टी कुलजिंदर सिंह की अगुआइ में सीआइए स्टाफ-2 प्रभारी सब इंस्पेक्टर सुखराज सिंह को सूचना मिली कि रेलवे रोड पर फोटो स्टेट की आड़ में फर्जी लाइसेंस और आरसी तैयार की जाती है। उक्त सूचना के आधार पर छापामारी करके अरवण सिंह, सरवण सिंह नामक दो भाइयों और उनके साथी जगजीत सिंह उर्फ जग्गा को काबू करके जांच की गई। जांच दौरान फाजिल्का, नकोदर, अमृतसर, तरनतारन, फरीदकोट, फिरोजपुर, श्री मुक्तसर साहिब, बरनाला, तरनतारन, रायकोट, जीरा, बाबा बकाला साहिब के डीटीओ की मोहरें, सरकारी स्कूलों के प्रिंसिपलों की मोहरें, एग्जिक्यूटिव मजिस्ट्रेट पट्टी, तहसीलदार पट्टी, लाइसेंस अथारिटी पट्टी, नोटरी की जाली मोहरें बरामद की गई। पूछताछ के बाद आरोपितों ने चीमा फोटो स्टेट पर छापामारी करवाकर कई डाक्टरों की फर्जी मोहरें भी बरामद करवाई। एसएसपी ध्रुमन एच निंबाले ने बताया कि आरोपितों को अदालत में पेश करके एक दिन का रिमांड लिया गया है।

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप