रविंदर कक्कड़, तरनतारन : बुधवार रात को शुरू हुई हल्की बूंदाबांदी तेज बारिश में बदल गई। वीरवार को सारा दिन हुई बारिश से किसानों के खेतों में पानी भर गया। इससे उन्हें परेशानियों का सामना करना पड़ा।

बारिश का प्रभाव लोगों के कारोबार पर भी पड़ा। स्कूलों में बच्चों की हाजिरी कम रही। बजारों में दुकानदार ग्राहकों का इंतजार करते रहे। वेलेंटाइन डे मौके दुकानें तो सजी परंतु ग्राहकों की आमद फीकी रही। शाम 4 बजे तरनतारन शहर में बादलों का इतना असर रहा कि घोर अंधेरा पड़ गया। इसके कारण सड़कों से गुजरने वाले वाहनों की लाइटें जलाई। कस्बा पट्टी, फतेहाबाद, खडूर साहिब, चोहला साहिब, हरीके पत्तन, घरियाला, भिखीविंड, सुरसिंह, खेमकरण, खालड़ा, झब्बाल, सराए अमानत खां क्षेत्र में सब्जियों की फसलें व पशुओं के चारे को नुकसान पहुंचा। किसान सेवा सिंह, नरिंदर सिंह, जगीर सिंह, बलविंदर सिंह, बलकार सिंह संधू, कुलवंत सिंह ठेकेदार, बलबीर सिंह बब्बी ने बताया कि आलू, मटर, टमाटर, हरी मिर्च को नुकसान पहुंचा है। किसान संघर्ष कमेटी नेता हरप्रीत सिंह सिधवां, तेजिंदरपाल सिंह राजू, जमहूरी किसान सभा नेता जसपाल सिंह ढिल्लों ने कहा कि फसलों के हुए नुकसान का सरकार मुआवजा दे।

Posted By: Jagran