संवाद सूत्र, भिखीविंड : नगर पंचायत भिखीविंड की कमेटी द्वारा भले ही 42 लाख रुपये प्रति वर्ष सफाई पर खर्च किए जा रहे हैं, परंतु भिखीविंड की सफाई को नजदीक होकर देखा जाए, तो ऐसा महसूस होता है कि जैसे सफई के नाम पर लग रहा पैसा खजाने की सफाई कर रहा हो। भिखीविंड निवासी करण सोंधी, हरमन धवन, कुलजीत सिंह, दलजीत सिंह, हरजीत सिंह, कुलतार सिंह और हरजिंदर सिंह ने स्थानीय निकाय विभाग से मांग की कि भिखीविंड शहर की सफाई को यकीनी बनाया जाए और सड़कों पर लगते कूड़े के ढेर रोजाना उठाए जाए । उन्होंने ये भी कहा कि सड़कों पर सफाई करना भले सफाई कर्मियों का कार्य है, परंतु जितनी देर तक सफाई कर्मी सड़कों पर आते हैं, तब तक दुकानदार अपनी दुकान समक्ष से खुद ही सफाई कर लेते हैं। लोगों का कहना है कि फिर इन सफाई कर्मियों को सरकारी पैसा देने का क्या फायदा है। वहीं गंदे पानी की निकासी न होने कारण मोहल्ला निवासी गुरबचन सिंह, गुरप्रीत सिंह, लाटी, बलविंदर सिंह, गुरकृपाल सिंह ने कहा कि नगर पंचायत भिखीविंड की कमेटी ने गली में पानी की निकासी लिए सीवरेज तो डाले हैं, लेकिन गली का कार्य पूरा नहीं करवाया, जिससे मोहल्ला निवासियों को गली से गुजरने में दिक्कत होती है। उक्त मोहल्ला निवासियों ने महकमा, स्थानीय सरकार विभाग पंजाब, ईओ व जिला के डिप्टी कमिश्नर से मांग की है कि गली के अधूरे पड़े कार्य को तुरंत मुकम्मल करवाया जाए। भिखीविंड के कार्यसाधक अधिकारी शरणजीत कौर ने कहा कि मामला अभी मेरे ध्यान में आया है। शीघ्र ही लोगों को इस समस्या से निजात दिलाई जाएगी, जो सफाई कर्मी अपनी ड्यूटी ठीक से नहीं निभाते, उनके विरुद्ध कार्रवाई भी होगी।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!