जागरण संवाददाता, तरनतारन : पुलवामा में शहादत का जाम पीने वाले सीआरपीएफ के हैड कांस्टेबल सुखजिंदर सिंह की बरसी के मौके कोई भी बड़ा सियासी नेता व प्रशासनिक अधिकारी नहीं पहुंचा। शहीद के परिवार द्वारा गांव के गुरुद्वारा साहिब में लंगर लगाकर सारा दिन सेवा की गई।

विधानसभा हलका पट्टी के गांव गंडीविंड निवासी सुखजिंदर सिंह 14 फरवरी 2019 को जम्मू-कश्मीर के पुलवामा क्षेत्र में शहीद हुए। बस में जाते समय पुलवामा में जोरदार विस्फोट हुआ था, जिसमें 40 से अधिक जवानों को अपने प्राणों की आहूति देनी पड़ी थी। इनमें सीआरपीएफ की 76वीं बटालियन के हैड कांस्टेबल सुखजिंदर सिंह भी शामिल थे। शहीद के परिवार की ओर से बरसी के संबंध में स्थानीय गुरुद्वारा साहिब में श्री सुखमणि साहिब जी का पाठ करवाया गया। इसके उपरांत बाबा प्रगट सिंह लूआं साहिब द्वारा कीर्तन किया गया। सुबह साढे 10 बजे एडीसी (जनरल) सुरिंदर सिंह गुरुद्वारा साहिब पहुंचे और शहीद की पत्नी को पांच लाख का चेक देकर महज 12 मिनट में वापस लौट गए। हालांकि श्री सुखमणि साहिब जी के पाठ के बाद कीर्तन किया गया और एक बजे अरदास की गई। नेताओं ने साथ खड़ा रहने का दिया था आश्वासन

शहीद को श्रद्धांजलि भेंट करने लिए न तो कांग्रेसी विधायक हरमिंदर सिंह गिल पहुंचे और न ही सांसद जसबीर सिंह डिंपा। यहां तक कि शिअद से संबंधित एक भी नेता पहली बरसी में दिखाई नहीं दिए।

शहीद सुखजिंदर सिंह के पिता गुरमेज सिंह ने कहा कि शहादत के समय सैकड़ों नेताओं ने गांव पहुंचकर आश्वासन दिया था कि परिवार के साथ सदा खड़े रहेंगे। परंतु भोग की रस्म के बाद कोई भी सियासी नेता या प्रशासनिक अधिकारी उनकी खबर लेने नहीं पहुंचा। राज्य सरकार ने शहीद के कुर्बानी को किया अनदेखा : आप

उधर, आम आदमी पार्टी के युवा विंग के प्रदेश अध्यक्ष मनजिंदर सिंह सिंह सिद्धू, पट्टी हलके के इंचार्ज रंजीत सिंह चीमा ने बरसी समागम में पहुंचे। उन्होंने कहा कि देश के लिए कुर्बान होने वाले इस योद्धा की बरसी राज्य सरकार को मनानी चाहिए थी, परंतु ऐसा नहीं हुआ। यह सब शहीद की कुर्बानी की अनदेखी है। इस मौके प्रताप सिंह, अमरजीत सिंह, कुलविंदर सिंह राय, राय दविंदर सिंह, खजान सिंह, सिकंदर सिंह, लखबीर सिंह चोहला साहिब, बलवंत सिंह, महिंदर सिंह चंबा, सरपंच अमरजीत कौर, पंच सूबेदार बलवंत सिंह, अंग्रेज सिंह, दर्शन कौर, गुरप्रीत सिंह, मेजर सिंह, सुखराज सिंह, दिलबाग सिंह, तरलोक सिंह, जसबीर सिंह, मस्सा सिंह, चमकौर सिंह, वीर सिंह भी मौजूद थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!