संवाद सहयोगी, तरनतारन : आशा वर्कर्स व फेसिलिटेटर यूनियन की राज्य स्तरीय कन्वेंशन का आयोजन किया गया। इसमें सूबा कमेटी के चुनाव, सरकार की मुलाजिम विरोधी नीति के खिलाफ रणनीति तय करने के लिए सुखविदर कौर, लखविदर कौर, राणो खेड़ी, हरनिदर कौर, रीना पट्टी ने कन्वेंशन की अगुआई करते हुए कृषि सुधार कानूनों की वापसी के लिए चल रहे आंदोलन को समर्थन देने का एलान किया।

राज कुमारी, इंदू बाला, सुखराज कौर झब्बाल, रजिदर कौर, निर्मला रानी, नसीब कौर, रछपाल कौर ने कहा कि सरकार की नीति मुलाजिम विरोधी साबित हो रही है। आशा वर्करों को वर्दी, रेस्टरूम, मुफ्त इलाज, स्पेशल कोरोना भत्ता, मोबाइल सिम की सुविधा देने की मांग की गई। इस मौके पर पुरानी कमेटी को भंग करके नई कमेटी का चुनाव किया गया। इसमें सुखविदर कौर (होशियारपुर) को चेयरपर्सन, राणो खेड़ी (संगरूर) को अध्यक्ष, संदीप कौर (बरनाला) को वरिष्ठ उपाध्यक्ष, लखविदर कौर (तरनतारन) को महासचिव, हरनिदर कौर (होशियारपुर) को वित सचिव, राज रानी को उपाध्यक्ष, रीटा रानी को सहायक सचिव, इंदू बाला को प्रेस सचिव को नियुक्त किया गया।

इस मौके पर मांगों को लेकर 18 से 23 अक्टूबर तक सिविल सर्जन कार्यालयों समक्ष रैलियां करके सेहत मंत्री को ज्ञापन सौंपने व 21 नवंबर को सेहत मंत्री के खिलाफ राज्य स्तरीय रैली करके उनकी रिहायश की ओर कूच करने का फैसला किया गया।

Edited By: Jagran