संवाद सूत्र, भिखीविड : केंद्र सरकार द्वारा धान की कीमत में मामूली 72 रुपये की बढ़ोतरी करने के खिलाफ तहसील भिखीविड में जम्हूरी किसान सभा द्वारा जरनैल सिंह दयालपुरा की अगुआई में सरकार का पुतला जलाकर नारेबाजी की गई।

इस मौके कामरेड दलजीत सिंह दयालपुरा ने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा दिन ब दिन डीजल-पेट्रोल व रसोई गैस की कीमतों में लगातार बढ़ोतरी की जा रही है। जिससे लोगों पर आर्थिक बोझ पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा पास किए तीन कृषि कानूनों को रद्द करवाने लिए दिल्ली बार्डर पर किसान-मजदूर, महिलाएं, युवा व बच्चे आंदोलन कर रहे हैं, परंतु अभी तक केंद्र सरकार द्वारा न तो किसानों से बातचीत की जा रही है और न ही कानूनों को रद्द किया गया है। तहसील सेक्रेटरी केवल सिंह कंबोके ने कहा कि सरकार ने धान की कीमत में जो मामूली वृद्धि की है, उसको रद्द करते योग्य समर्थन मूल्य दिया जाए। तेल की कीमतों में की बढ़ोतरी वापस ली जाए। किसान विरोधी कानूनों को रद किया जाए। प्रदेश सरकार के कार्यो में दखलअंदाजी रोकने, मोटर बिल पर सब्सिडी बंद करने की मांग करते कहा कि अगर इन मांगों की तरफ ध्यान न दिया तो सरकारों को कर्जा वापस नहीं दिया जाएगा। इस मौके जेई कुलवंत सिंह माणकपुरा, निशान सिंह कंबोके, गुरनाम सिंह बासरके, सतनाम सिंह मरगिदपुरा मौजूद थे।

Edited By: Jagran