संवाद सूत्र, भिखीविड : अमर शहीद बाबा दीप सिंह जी के जन्मदिवस को समर्पित तीन दिवसीय वार्षिक जोड़ मेला श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी की छत्रछाया में श्रद्धापूर्वक करवाया गया। मेले के दौरान रखवाए गए श्री अखंड पाठ साहिब जी के भोग डाले गए और परमिदर सिंह के रागी जत्थे द्वारा कीर्तन किया गया।

मेले की शुरुआत मंगलवार रात को करवाए गए कवि दरबार से की गई। कवियों ने संगत को सिख कौम का गौरवमयी इतिहास सुनाया। दूसरे दिन गुरुद्वारा बाबा दीप सिंह साहिब में पहुंचे कथावाचक बंता सिंह मुंडापिड वालों ने गुरु साहिबान के गौरवमयी इतिहास से संगत को अवगत करवाते हुए गुरु गोबिद सिंह जी द्वारा दिखाए गए मार्ग पर चलने लिए प्रेरित किया। दीवान की हाजिरी दौरान पहुंचे लेखक डा. हरशिदर कौर ने सिख कौम के सुनहरी अक्षरों में लिखे इतिहास संबंधी रोशनी डाली। वहीं समाज के अंदर बढ़ रही समाजिक कुरीतियों व महिलाओं से हो रहे दु‌र्व्यवहार पर चिता जाहिर करते जगत गुरु श्री गुरु नानक देव जी द्वारा दिखाए मार्ग पर चलने लिए प्रेरित किया। ढाडी मनदीप सिंह पहुविड, प्रभजोत सिंह व उनके साथियों ने सिख कौम के महान योद्धा अमर शहीद बाबा दीप सिंह जी, बाबा बंदा सिंह बहादुर जी, शहीद भाई तारू सिंह जी, शहीद बाबा सुक्खा सिंह, बाबा मेहताब सिंह जी आदि शूरबीर योद्धाओं का इतिहास सुनाकर संगत को निहाल किया।

मेले दौरान समाज सेवी जत्थेबंदी शहीद बाबा दीप सिंह रक्तदान व वेलफेयर क्लब भिखीविड द्वारा रक्तदान कैंप लगाया गया। कैंप के पहले दिन बड़ी तादाद में युवाओं की ओर से रक्तदान किया गया। इसके अलावा मेले दौरान गुरदासपुर से पहुंचे कुछ गुरसिखों ने संगतों के जोड़ों को पालिश व मरम्मत किया। स्टेज सेक्रेटरी की सेवा गुरसेवक सिंह पहुविड ने बाखूबी निभाई।

इस मौके पर बीबी कौलां जी केंद्र ट्रस्ट (अमृतसर) के सेवादार हरमिदर सिंह, सकत्तर सिंह पहुविड, मार्केट कमेटी भिखीविड के चेयरमैन राजवंत सिंह, सरपंच इंद्रबीर सिंह पहुविड, आप नेता सरवन सिंह धुन्न, जुगराज सिंह, दरबारा सिंह गिल, जगरप्रीत सिंह धामी, प्रवीन कुमार, हरजीत सिंह, बंटी धुन्ना, गुरविदर सिंह, जगमीत सिंह, जसमीत सिंह, गुरप्रीत सिंह मल्ली, बाबा दलजीत सिंह विक्की, सुखदीप सिंह सोहल, पाल सिंह उदोके, बलविदर सिंह संधू, रंगा सिंह, गुरमुख सिंह, गुरविदर सिंह ने मेले मौके हाजिरी भरी।

Edited By: Jagran