जागरण संवाददाता, तरनतारन : धान की पराली को आग न लगाने के लिए कृषि विभाग द्वारा जिले भरे में गांव स्तर पर 120 कैंप ब्लॉक स्तर पर व आठ कैंप जिला स्तर पर लगाए जा चुके हैं, जबकि सुपर एसएमएस के बिना चलने वाली आठ कंबाइनों को विभाग ने रोक दिया है। यह जानकारी जिला कृषि अधिकारी हरिंदरजीत सिंह ने जिले के आठ ब्लॉकों में किसानों को जागरूक करने लिए जागरुकता वैन को रवाना करते हुए कही। एडीसी (जनरल) संदीप कुमार ने कहा कि कृषि विभाग की ओर से किसानों को जागरूक करने के अच्छे नतीजे सामने आ रहे है। प्रत्येक गांव के गुरुद्वारा साहिब से दो वक्त घोषणा करके किसानों को पराली को आग न लगाने लिए संदेश दिया जा रहा है। ब्लॉक तरनतारन, गंडीविंड, भिखीविंड, नौशहरा पन्नूआं, चोहला साहिब, खडूर साहिब, पट्टी, वल्टोहा में विभिन्न कैंप लगाकर पराली को आग लगाने से होने वाले नुकसान से अवगत करवाया जा चुका है।

जिला कृषि अधिकारी हरिंदरजीत सिंह ने कहा कि नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल की आदेशों मुताबिक धान की पराली को आग लगाने पर पाबंदी लगाई गई है। इस बाबत ऐसी किसी भी घटना का पूरी सटीकता से पता लगाने लिए उपग्रह से खेतों की निगरानी की जा रही है। यहां भी ऐसी घटना होती है तुरंत संबंधित एसडीएम को कार्रवाई लिए आदेश आ जाता है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!