जासं, तरनतारन : अमावस पर श्री दरबार साहिब में दिनभर संगतों का सैलाब उमड़ा रहा। दूर-दूर से आई संगत ने सर्दी की परवाह किए बिना पावन दुखख्निवारण सरोवर में स्नान करके गुरुघर में हाजिरी भरी।

पंचम पातशाह श्री गुरु अर्जुन देव जी द्वारा बसाई नगरी के श्री दरबार साहिब तरनतारन में सोमवार की रात को धार्मिक दीवान सजाए गए। रात भर संगतों को रागी जत्थों ने गुरबाणी ओर सिख इतिहास से अवगत करवाया। कथा स्थान में आयोजित समागमों में भाग लेने वाले जत्थों को हैड ग्रंथी गुरजंट सिंह, मैनेजर बलविंदर सिंह उबोके ने सम्मानित किया। मंगलवार को सुबह से संगतों की तेजी से आमद शुरू हो गई। एसजीपीसी ने संगतों के लिए लंगर और रिहायश का बेहतर ढंग से प्रबंध किया था।

गुरु घर में माथा टेकने आए मोहाली निवासी मेहर सिंह कंग, जरनैल सिंह संधू, राजबीर कौर पनेसर, दीप इंद्र कौर ने दैनिक जागरण को बताया कि वह हर वर्ष मघ्घर महीने की अमावस को माथा टेकने यहां आते है। मंडी डबवाली से गुरु घर में हाजिरी भरने के लिए संगतों की बस यहां पहुंची। इस यात्रा के प्रबंधकों को एसजीपीसी द्वारा सम्मानित किया गया।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!