जासं, तरनतारन : जिला खाद्य आपूर्ति अधिकारी सुखजिदर सिंह ने बताया कि जिले की अनाज मंडियों में धान की खरीद के मामले में किसानों को किसी प्रकार की कोई मुश्किल नहीं आ रही। सरकार की तरफ से जारी आदेशों का पालन करते हुए सभी खरीद एजेंसियों के अधिकारी दिन-रात एक कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि जिले भर में 4,55,815 मीट्रिक टन धान की खरीद की जा चुकी है। 355 करोड़ 97 लाख रुपये की अदायगी किसानों को कर दी गई है।

सुखजिदर सिंह ने कहा कि जिले भर में भुगतान के लिए केवल 48 घंटे का समय तय किया गया है। ताकि किसानों को किसी प्रकार की मुश्किल का सामना न करना पड़े। उन्होंने बताया कि 4,78,015 मीट्रिक टन धान की आमद जिले भर की मंडियों में हुई है। इसमें 4,55,815 मीट्रिक टन धान की खरीद विभिन्न एजेंसियों द्वारा की जा चुकी है।

खरीद में एफसीआइ पिछड़ी

पनग्रेन द्वारा 1,95,486, मार्कफेड द्वारा 1,01,360, पनसप द्वारा 95,758 मीट्रिक टन, वेयरहाउस द्वारा 78,177, एफसीआइ द्वारा 346 मीट्रिक टन धान की खरीद की गई। उन्होंने बताया कि लिफ्टिग के मामले में सरकार किसी भी प्रकार की लापरवाही नहीं बरतना चाहती। इसके तहत 1,71,905 मीट्रिक टन धान की लिफ्टिग का काम मंडियों में मुकम्मल हो चुका है।

तुलाई में लापरवाही न हो

जिला खाद्य आपूर्ति अधिकारी सुखजिदर सिंह ने कहा कि सरकारी खरीद में किसी प्रकार की लापरवाही न हो, इसके लिए टीमों का गठन किया गया है। सभी खरीद एजेंसियों के अधिकारियों को आदेश दिया गया है कि तुलाई के मौके कोई लापरवाही न हो पाए। किसानों को चाहिए कि सरकार द्वारा तय की नीति मुताबिक ही मंडी में फसल को लाएं। अधिक नमी या हरे रंग की धान लाना समय बर्बाद करवाने के बराबर है।

Edited By: Jagran