जेएनएन, लहरागागा (संगरूर)

खेत में तूड़ी वाली मशीन अपने-अपने पहचान वाले के खेत में लगाने को लेकर पिता-पुत्र के बीच हुई तकरार में बेटे ने अपने पिता के सिर पर ईंट मारकर उसे मौत के घाट उतार दिया। पिता की मौत अचानक पैर फिसलने से होने की कहानी बनाकर आरोपित पुत्र ने न केवल परिजनों को गुमराह किया, बल्कि परिजन भी उसकी कहानी पर विश्वास करके बुजुर्ग का अंतिम संस्कार कर दिया।

शोक सभा दौरान अचानक महिलाओं की बातचीत से इस हत्या की भनक मृतक के भांजे को लग गई, जिसने पुलिस को इसकी सूचना दी। पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच-पड़ताल की व पिता की हत्या करने वाले आरोपित पुत्र को गिरफ्तार कर लिया।

मामले की जानकारी देते हुए डीएसपी बूटा सिंह गिल ने बताया कि गुरतेज सिंह उर्फ लाडी निवासी उप्पली थाना सदर संगरूर ने पुलिस को मामला दर्ज करवाया था कि उसके मामा भप्पा सिंह गांव लहल खुर्द थाना लहरा में रहता था। मामा भप्पा सिंह के पाल सिंह व जगतार सिंह नामक दो लड़के हैं। पाल सिंह खेतीबाड़ी का काम करता है व जगतार सिंह मैदा मिल में मुंशी की नौैकरी करता है। 15 अप्रैल को मामा भप्पा सिंह की मौत हो गई, जिसके संस्कार पर वह भी ननिहाल पहुंचा। यहां कुछ महिलाएं बातचीत कर रही थीं कि मृतक भप्पा सिंह का अपने पुत्र पाल सिंह से तूड़ी करने वाली मशीन खेत में लगाने संबंधी झगड़ा हुआ था, इस झगड़े में पाल सिंह ने अपने पिता भप्पा सिंह के सिर पर ईंट से जोरदार प्रहार करके उसका कत्ल कर दिया। कत्ल करने के बाद पाल सिंह ने झूठी कहानी बनाई कि भप्पा सिंह का पैर फिसलने के कारण सिर में चोट लग गई। भप्पा सिंह के पुत्र जगतार सिंह ने इलाज के लिए सिविल अस्पताल संगरूर लेकर जाते समय मौत हो गई। परिजनों ने 16 अप्रैल को भप्पा सिंह का अंतिम संस्कार भी कर दिया था। पुलिस ने मामले की जांच के बाद आरोपित पाल सिंह को गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ दौरान पाल सिंह ने कबूल किया कि उसका अपने पिता से तूड़ी की मशीन लगाने को तकरार हुई थी, उसने गुस्से में आकर ईंट सिर में दे मारी, जिससे पिता की मौत हो गई।

Posted By: Jagran