जागरण संवाददाता, संगरूर

भारतीय किसान यूनियन एकता उगराहां जिला संगरूर द्वारा जिलाध्यक्ष अमरीक सिंह गंढूआ की अगुवाई में विगत आठ दिन से डीसी कार्यालय संगरूर के समक्ष दिया जा रहा रोष धरना लगातार जारी है। सोमवार को किसानों को संबोधित करते हुए जिलाध्यक्ष अमरीक सिंह गंढूआ व जिला महासचिव दरबारा सिंह ने बताया कि पंजाब सरकार ने गत चुनाव के समय घर-घर नौकरी, कर्ज माफी, एक सप्ताह में नशे की समाप्ति, मुलाजिमों को पक्के करने के वादे किए थे। पांच वर्ष का कार्यकाल समाप्त होने को है। अब फिर दोबारा वहीं घिसे पीटे वायदे करके जनता को गुमराह करने की कोशिशें की जा रही हैं। उन्होंने मांग की कि खुदकशी पीड़ित किसान परिवारों को तीन-तीन लाख रुपये की आर्थिक सहायता, एक सदस्य को सरकारी नौकरी दी जाए, पांच एकड़ तक मालकी वाले किसानों के लिए एलान की दो लाख रूपये तक की कर्जा माफी बगैर शर्त किसानों को दी जाए, आंदोलन में मरे किसानों के परिवारों को पांच लाख रूपये मुआवजा व सरकारी नौकरी दी जाए, पंजाब को नशा मुक्त किया जाए, यूरिया खाद की कमी दूर की जाए, टोल प्लाजा के मूल्य में की बढ़ोतरी वापस ली जाए, मुलाजिमों को बकाया वेतन दिया जाए, आंदोलनकारी बेरोजगार टीचरों पर मानसा में हुए लाठीचार्ज के लिए जिम्मेवार डीएसपी के खिलाफ मामला दर्ज कर उसे जेल में डाला जाए, किसानों व मजदूरों पर डाले झूठे पर्चे रद्द किए जाएं, किसानों व मजदूरों के सभी कर्ज माफ किए जाएं।

इस मौके पर जिला महासचिव दरबारा सिंह, कृपाल सिंह धूरी, अजैब सिंह, राम सिंह, जसवंत सिंह, बहादर सिंह, दर्शन सादीहरी, सुखपाल सिंह, गोबिदर सिंह, मनजीत घराचों, हरबंस सिंह, दर्शन सिंह, शेर सिंह आदि मौजूद थे।

Edited By: Jagran