जागरण संवाददाता, संगरूर : पंजाब सरकार द्वारा जारी की गई छठे पे कमिशन की सिफारिशों के खिलाफ व एनपीए के मुद्दे को लेकर सिविल अस्पताल संगरूर में पीसीएमएस एसोसिएशन डेंटल, आयुर्वेदिक मेडिकल अफसर एसोसिएशन, वेटरनरी डाक्टर एसोसिएशन व रूरल मेडिकल अफसर एसोसिएशन, ज्वाइंट पंजाब सरकार डा. कोआर्डिनेशन कमेटी जिला संगरूर द्वारा जिले में हड़ताल की गई, जिससे सिविल अस्पताल संगरूर ओपीडी सर्विसेज व इलेक्टिव सर्जरी का काम पूरी तरह से ठप रहा।

इस मौके डीएमसी डा. परमिदर कौर, एसएमओ डा. बलजीत सिंह, डा. अमनदीप कौर सहित दूसरे स्टाफ सदस्यों ने कहा कि पे कमिशन की सिफारिश मुताबिक एनपीए को 25 प्रतिशत से घटाकर 20 प्रतिशत कर दिया गया है, जिससे समूह मुलाजिमों में रोष है। उन्होंने मांग की कि एनपीए को बढ़ाकर 33 प्रतिशत किया जाए, इसे पहले की तरह प्राथमिक वेतन का हिस्सा मानते हुए वेतन व पेंशन दी जाए, कोरोना महामारी दौरान लड़ने वाले सभी कैंडरों के डॉक्टरों को स्पेशल भत्ता दिया जाए। इस मौके ज्वाइंट पंजाब सरकार डाक्टर एसोसिएशन कमेटी जिला संगरूर ने एलान किया है कि उक्त मांगे सभी कैडरों व डाक्टरों की सांझी लड़ाई है, जिसे इक्टठा होकर लड़ा जाएगा। इस अवसर पर आइएमए संगरूर द्वारा दो घंटे काम बंद कर हड़ताल का समर्थन किया। मौके पर स्टेट एग्जीक्यूटिव सदस्य डा. वीरइंद्र सिंह, स्टेट एग्जक्यूटिव सदस्य डा. पीएस कलेर, डा. राहुल कुमार, डा. संजीव कुमार, डा. विनोद कुमार, डा. जूही गोयल, डा. रमनवीर कौर, डा. हरप्रीत कौर, डा. बिंदू कौशल, डा. सुरभी, डा. रविदर नाथ, डा. दिनेश कुमार, डा. ज्योति वर्मा, डा. दीपक कांसल, डा. नवदीप अरोड़ा, डा. कर्मदीप सिंह आदि उपस्थित थे।

Edited By: Jagran