संवाद सूत्र, धूरी (संगरूर):

यूनिवर्सिटी कॉलेज बेनड़ा में तर्कशील सोसायटी द्वारा पंजाब संगीत नाटक अकादमी के सहयोग से लोक कला मंच मंडी-मुल्लांपुर की टीम द्वारा हरकेश चौधरी के निर्देशन में जलियांवाला बाग कांड के शताब्दी वर्षगांठ को समर्पित नाटक 'सिर जो झुके नहीं' का मंचन किया गया। प्रोग्राम की शुरुआत पर प्रो. हरप्रीत सिंह ने सभी का स्वागत किया व लोक कला मंच मंडी-मुल्लांपुर द्वारा किए जा रहे प्रयत्नों की प्रशंसा की। इस उपरांत जगजीवन जुगनूं व कुलविदर बंटी ने इंकलाबी गीत पेश किए। इसके उपरांत तर्कशील सोसायटी के प्रांतीय कमेटी सदस्य बलवीर चंद लोंगोवाल ने जलियांवाला बाग कांड के शहीदों को श्रद्धांजलि भेंट की व तर्कशील सोसायटी की वैज्ञानिक विचारधारा व प्रचार हेतु किए जा रहे प्रयत्नों की जानकारी दी। नाटक 'सिर जो झुके नहीं' का मंचन करने वाली टीम का हौसला बढ़ाया। सुरिदर शर्मा के पागल व्यक्ति के किरदार ने दर्शकों को भावुक कर दिया। कॉलेज प्रिसिपल डॉ. अशोक कुमार ने लोक कला मंच मंडी मुल्लांपुर व तर्कशील सोसायटी का धन्यवाद किया। प्रिसिपल डॉ. अशोक कुमार ने समूची टीम को सम्मानित किया। स्टेज संचालन सुखदेव धूरी ने किया। इस मौके जगतार सिंह, राजिदर राजू, रतन भंडारी, बाबू सिंह, डॉ. अवतार सिंह, अकविदर कौर, परमवेद, यादविदरपाल, बिक्रमजीत सिंह, राज सिंह, कुलवंत सिंह, अवकरण सिंह आदि उपस्थित थे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!