संवाद सूत्र, मूनक (संगरूर)

सीनियर मेडिकल अफसर डा. प्रशांत गौतम की अगुआई में सेहत ब्लाक मूनक में मलेरिया व डेंगू संबंधी लोगों को जागरूक करने हेतु सर्वेलैस दौरा किया गया। नोडल अफसर हरदीप जिदल ने बताया कि सेहत विभाग की टीमों द्वारा राष्ट्रीय वैक्टर बोर्न डिजिज कंट्रोल प्रोग्राम के तहत विभिन्न संस्थानों व घरों का विशेष सर्वेलैस दौरा कर पानी के स्त्रोतों की चेकिग की गई व लोगों को जागरूक किया गया। मलेरिया होने से उल्टी, तेज सिरदर्द, थकावट, कमजोरी महसूस होती है, जबकि डेंगू मादा मच्छर एजीपटी से पैदा होता है। इसके शरीर पर सफेद चीते जैसी धारियां होती हैं। इसके काटने से आंखों के पीछे दर्द, जी मचलाना, सांस फूलना, बुखार जैसे लक्षण पैदा होते हैं। उन्होंने बताया कि इन मच्छरों को पैदा होने से रोकने के लिए बरसात के मौसम में कहीं पर पानी जमा नहीं होने देना चाहिए। घर की छत पर पड़े खाली गमले, टायर, कूलर, नालियों की समय पर सफाई करनी चाहिए।

Edited By: Jagran