जेएनएन, लहरागागा (संगरूर) : भाजपा ने अकालियों को दिल्ली की सियासत में से बाहर कर साबित कर दिया है कि अकाली दल की उल्टी गिनती शुरू हो गई है। पूर्व मुख्यमंत्री राजिदर कौर भट्ठल ने पत्रकारों से बातचीत करते कहा कि मोदी देश व पंजाब विरोधी है। मोदी सरकार ने पंजाब से हर कदम पर पक्षपात कर पंजाब व पंजाबियों के लिए मुश्किलें खड़ी करने में कोई कसर बाकी नहीं छोड़ी है। पंजाब हितैषी कहलाने वाला अकाली दल मोदी की पंजाब विरोधी सोच का मुरीद रहा है। केंद्र में अपनी मिनिस्ट्री व राजनीतिक अस्तित्व बचाने के लिए बादल परिवार भाजपा की चापलूसी कर रहा है, जबकि अकाली दल को केंद्रीय पद से इस्तीफा देकर भाजपा से नाता तोड़ते पंजाब हितैषी होने का सबूत देना चाहिए। उन्होंने कहा कि अकाली दल के सीनियर नेता ही पार्टी से बगावत कर रहे हैं। बादल परिवार कुर्सी बचाने व ढींडसा परिवार से कुर्सी लेने की लड़ाई लड़ रहे हैं। उन्हें पंजाब व सिखों के हितों की कोई परवाह नहीं है। राज्य में सोनिया गांधी द्वारा बनाई गई 11 सदस्यीय कोआर्डिनेटर कमेटी कुछ समय काम कर राज्य की पूरी रिपोर्ट सोनिया गांधी को देगी। इसके बाद जल्द पार्टी के जत्थेबंदक ढांचे का पुनर्गठन किया जाएगा। उन्होंने कहा कि प्रकाश सिंह बादल व सुखबीर सिंह बादल अपने राजनीतिक हितों के लिए धर्म को इस्तेमाल कर रहे हैं, जिससे इनका राजनीतिक अंत तय है। भट्ठल ने कहा कि सरकार द्वारा स्वतंत्रता सेनानियों के लिए टोल टैक्स फ्री किया गया है। अगर कोई जबरी टोल लेते हैं तो उन्हें किसी कीमत पर बख्शा नहीं जाएगा। इस मौके ओएसडी रविदर सिंह टुर्ना, मीडिया सलाहकार सनमीक हैनरी, गुरतेज सिंह तेजी इंचार्ज खनौरी सर्कल, ब्लॉक सम्मति के वाइस चेयरमैन रविदर कुमार रिकू गुरने, डॉ. पुष्पिदर जोशी सरपंच भाई की पिशौर, सुखराम सिंह खंडेबाद सीनियर कांग्रेसी नेता आदि उपस्थित थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!