जेएनएन, भवानीगढ़ (संगरूर) : धान के सीजन की शुरूआत के बाद धान की कटाई ने जोर पकड़ लिया है व खरीद केंद्रों में धान की आमद जोरों से शुरू हो गई है। पिछले सीजन के दौरान इस बार भी किसानों को परमल धान के झाड़ कम होने की चिता सताने लगी है। क्षेत्र के गांव मुंशीवाला के किसान राजिदर सिंह, बलविदर सिंह, गुरप्रीत सिंह, मलकीत सिंह सहित अन्य किसानों ने कहा कि पिछली बार भी उन्हें परमल धान का झाड़ कम निकलने के कारण परेशानी झेलनी पड़ी थी। वह बासमति 1509 किस्म की कटाई कर चुके हैं, जिसका झाड़ 18 से 23 क्विंटल प्रति एकड़ निकला है। वह अब परमल धान की कटाई कर रहे हैं, जिसका झाड़ तकरीबन 27 से 32 क्विंटल निकल रहा है। कम झाड़ निकलने से किसानों का 5 से 7 क्विटल प्रति एकड़ का नुकसान हो रहा है। आजकल महंगाई के कारण फसलों के कीटनाशकों के दाम आसमान छू रहे हैं, परंतु सरकारों द्वारा फसलों के दामों में बढ़ोतरी नाममात्र ही की गई है। इसी वजह से किसान आर्थिक तंगी झेल रहे हैं। किसानों ने मांग की कि सरकार बढ़ रही महंगाई व खेती के खर्चों का ध्यान में रखते हुए फसलों के दामों में मुनासिब बढ़ोतरी करके किसानों को राहत दे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!